आप यहाँ है :

अग्रोहा धाम में शरद पूर्णिमा का मेला इतिहास बना गया

शरद पूर्णिमा के मौके पर हर बार की तरह इस बार भी अग्रोहा धाम में दो दिवसीय महोत्सव का आयोजन किया गया। 34वें महोत्सव के दौरान हुए चिंतन अधिवेशन में वैश्य समाज ने 4 सामाजिक बिंदुओं पर चर्चा करते हुए इसे देश में लागू करने का निर्णय लिया है। इसके तहत वैश्य समाज निर्धन लोगों के लिए अब विशेष रूप से कार्य करेगा। मंगलवार को हुए कार्यक्रम की अध्यक्षता झारखंड के सीएम रघुवर दास ने की। इसके अलावा कार्यक्रम में मुख्यतिथि के रूप में रेल मंत्री सुरेश प्रभु मौजूद थे। हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर, उर्जा एवं कोयला मंत्री पीयूष गोयल, एस्सैल गु्रप के चेयरमैन डॉ. सुभाष चंद्रा, जम्मू-कश्मीर के स्पीकर कविंद्र गुप्ता, अग्रोहा विकास ट्रस्ट के अध्यक्ष सत्यनारायण गोयंका, मीडिया प्रभारी बजरंग दास गर्ग कार्यक्रम में मौजूद थे।
अग्रोहा विकास ट्रस्ट के सरंक्षक व एस्सैल ग्रुप के चेयरमैन डॉ. सुभाष चंद्रा ने कहा कि पूरे देश में वैश्य समाज के 300 से अधिक घटक है। महाराजा अग्रसेन ने क्षेत्रवाद की भावना की बजाय समाजहित को प्रमुखता दी। उन्होंने कहा कि अग्रोहा विकास ट्रस्ट ने 4 कोष बनाने का निर्णय लिया है। इसके तहत समाज का भला किया जाएगा। इन 4 कोष के बारे में डॉ. चंद्रा ने बताया कि इसके तहत ट्रस्ट जरूरमंद का इलाज करवाएगा। इसके अलावा मेधावी स्टूडेंट्स पैसे की कमीं के चलते पढ़ाई करने से वंचित न रह जाए। ऐसे में ट्रस्ट उन जरूरतमंद स्टूडेंट्स की भी आर्थिक मदद करेगी। तीसरा बिंदु बेरोजगारी को लेकर था। इसके तहत वैश्य समाज का प्रयास रहेगा कि वो समाज के लोगों की बेरोजगारी दूर करने का अधिक से अधिक प्रयास करेगा। चौथा निर्णय ‘बेटी बचाओं-बेटी पढ़ाओं’ अभियान की दिशा में लिया गया। जिन कन्याओं की आर्थिक तंगी के चलते शादी नहीं हो पा रही। समाज उनकी मदद करेगा। उन्होंने कहा कि व्यक्ति कैसे भी पिछड़ सकता है, फिर चाहे बात आर्थिक हो, शारीरिक हो या फिर शैक्षिक। ऐसे में हमें हमेशा यहीं प्रयास करने चाहिए कि सभी का विकास हो सके।

मेले के मीडिया प्रभारी बजरंग दास गर्ग ने कहा कि मेले में हजारों लोगों ने शिरकत की है। उन्होंने कहा कि वैश्य समाज महाराजा अग्रसैन के पदचिन्हों पर चलकर देशहित के कार्य कर रहा है। ट्रस्ट ने 4 बिंदुओं पर चर्चा कर समाजहित के कार्य को गति देने का कार्य किया है। अधिवेशन में जिन सामाजिक मुद्दों पर चर्चा हुई है, उन्हें देश में लागू किया जाएगा।

मौसम में आए बदलाव के बावजूद मेले कोimage (58) लेकर श्रद्धालुओं में जोश था। कार्यक्रम के अनुसार सुबह शक्ति सरोवर स्नान में भी श्रद्धालु उमड़ पड़े। इसके बाद मंदिर में आरती व पूजन हुआ। वहीं महिलाओं ने भव्य कलश यात्रा भी निकाली। अग्रोहा विकास ट्रस्ट बोर्ड के अध्यक्ष नंदकिशोर गोयंका ने अधिवेशन के दौरान ध्वजारोहण किया। कार्यक्रम के दौरान कुलदेवी महालक्ष्मी का छप्पन भोग प्रसाद भी लगाया गया। कार्यक्रम में पहुंचें तमाम दिग्गज नेताओं व लोगों ने महाराजा अग्रसेन व कुलदेवी महालक्ष्मी के मंदिर में जाकर आशीर्वाद लिया।

कार्यक्रम की एक खासियत यह भी थी कि वैश्य समाज के विभिन्न पार्टियों से जुड़े नेतागण एक ही मंच पर नजर आए। कार्यक्रम में 9 पार्टियों के दिग्गज पहुंचे थे। इनमें नेशनल पार्टी कांग्रेस, बीजेपी के अलावा आम आदमी पार्टी, इनेलो, तृणमूल कांग्रेस, समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी, शिरोमणि अकालीदल के अलावा कई निर्दलीय चुने गए जनप्रतिनिधि भी शामिल थे। कार्यक्रम में देशभर के वैश्य समाज के संस्थाओं के अध्यक्ष एवं पदाधिकारियों ने भी शिरकत की। इस दौरान अंतर्राष्ट्रीय वैश्य महासम्मेलन के अध्यक्ष रामदास अग्रवाल, अखिल भारतीय वैश्य महासम्मेलन के अध्यक्ष गिरीश सांघी, अखिल भारतीय अग्रवाल सम्मेलन के अध्यक्ष सुरेंद्र गुप्ता, छतीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री अमर अग्रवाल, राजस्थान के तकनीकी शिक्षा मंत्री कालीचरण सर्राफ, छत्तीसगढ़ विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल, दिल्ली के विपक्षी नेता विजेंद्र गुप्ता, हिसार से विधायक एवं सीपीएस डॉ. कमल गुप्ता सहित देश के विभिन्न हिस्सों कई राजनीतिक दिग्गज व उद्योगपति भी मौजूद थे।

अग्रोहा विकास ट्रस्ट के अध्यक्ष पद की जिम्मेवारी दोबारा से समाजसेवी सत्यनारायण गोयंका को मिली है। अग्रोहा ट्रस्ट बोर्ड के सरंक्षक व एस्सैल ग्रुप के चेयरमैन डॉ. सुभाष चंद्रा ने बताया कि उन्हें यह जिम्मेवारी 3 साल के लिए मिली है। सत्यनारायण गोयंका ट्रस्ट के अन्य 51 सदस्यों की जल्द नियुक्ति करेंगे। कार्यक्रम के दौरान वैश्य समाज के प्रतिभावान व्यक्तियों को सम्मानित भी किया गया। वहीं ट्रस्ट के पदाधिकारियों ने कार्यक्रम में आए अतिथिगणों को स्मृति चिह्न भी दिए।

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top