Sunday, July 14, 2024
spot_img
Homeसोशल मीडिया सेइज़राईल और फिलिस्तिनियों के बीच विवाद की जड़ अल -अक्सा

इज़राईल और फिलिस्तिनियों के बीच विवाद की जड़ अल -अक्सा

मस्जिद अल-अक्सा; यरूशलम[अल कुद्स] में स्थित यह मस्जिद इस्लाम धर्म में मक्का और मदीना के बाद तीसरा पवित्र स्थल है। यरूशलम पैगंबर मुहम्मद के जीवनकाल के दौरान और उनकी मृत्यु के तुरंत बाद के वर्षों के दौरान एक दूरदर्शी प्रतीक रहा जैसा कि मुस्लिमों ने इराक और उसके बाद सीरिया को नियंत्रित किया लेकिन यरुशलम 640 ईस्वी के दशक में मुस्लिमों के नियन्त्रण आया था, जिसके बाद यरूशलम एक मुस्लिम शहर बन गया और यरूशलम में अल अक्सा मस्जिद मुस्लिम साम्राज्य में सबसे महत्वपूर्ण धार्मिक स्थलों में से एक बनी। यह मस्जिद हमेशा से विवादित रही है क्योंकि यहूदी लोग इसे अपने मंदिर होने का दावा करते हैं।

ऐतिहासिक तथ्यों के अनुसार 957 ईशा पूर्व में यहूदीयों ने यरूशलम में पहला यहूदी मंदिर बनाया था और उसके बाद 352 ईशा पूर्व में दूसरा यहूदी मंदिर बनावाया। इसके बाद 561 ईश्वीं में ईसाइयों ने यरूशलम में ही सेंट मेरी चर्च का निर्माण किया। मुश्लिमों एक जिसे ‘डोम आॅफ द रोक्स'(dome of the rocks) के नाम से जाना जाता है। इसके बाद 702 ईश्वीं में मुस्लिमों ने ‘मस्जिद अल-अक्सा’का निर्माण कराया और तब से लेकर अब तक यहूदी इसी ‘मस्जिद अल-अक्सा’की पश्चिमी दिवार को पूजते हैं जिसे 352 ईशा पूर्व में बनाया गया था। तब से ही मस्जिद अल- अक्सा और यरूसलम यहूदी और मुसलमानों के लिए संघर्ष स्थल रहा है। मुस्लिम, ईसाई और यहूदी सभी के साथ मस्जिद के नीचे की जमीन को विशेष रूप से पवित्र माना जाता है, जिस कारण इस जमीन के इतिहास को समझने का महत्त्व अत्यंत महत्वपूर्ण है।

इजरायल की राजधानी यरुशलम स्थित यह मस्जिद दुनिया के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में शुमार है. अल-अक्सा मस्जिद यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल की सूची में भी शामिल है।

जब मुहम्मद ने पाँच दैनिक प्रार्थनाओं (नमाज) में मुस्लिम समुदाय की अगुवाई करने के लिए से आदेश प्राप्त किया, तो उनकी प्रार्थनाएँ पवित्र शहर यरूशलम की तरफ इशारा करती थीं। मुसलमान नमाज यरूशलम की तरफ मुँह करके पढ़ते थे लेकिन बाद में ईश्वरीय आदेश के बाद मुहम्मद ने मुसलमानों को मक्का की तरफ मुँह करके नमाज पढ़ने का आदेश दिया, मुसलमानों के लिए यरूशलम शहर एक महत्वपूर्ण स्थल है। इस्लाम के कई पैग्बर (दाऊद), सुलेमान (सोलोमन), और ईसा (ईसा) के शहर के रूप में, यह शहर इस्लाम के पैग्बरो का प्रतीक था। जब मुहम्मद ने मक्का से यरूशलम और चढ़ाई के चमत्कारिक रात की यात्रा को स्वर्ग में उस रात (इज़रा ‘वाल-मीयराज’ के रूप में जाना जाता है), तो उस जगह पर एक अतिरिक्त महत्त्व प्राप्त हुआ जहाँ पैगम्बर ने पहले के सभी पैगम्बरो का नेतृत्व किया प्रार्थना में और फिर स्वर्ग में।

इज़राइल के मुस्लिम निवासी और पूर्वी यरूशलेम में रहने वाले फिलिस्तीनियों आमतौर पर हरम अल-शरीफ में प्रवेश कर सकते हैं और अकसा में मस्जिद प्रार्थना कर सकते हैं। लेकिन यहूदी मस्जिद में मुसलमानों के प्रवेश में बाधा डालते हैं। ओर यहूदी मस्जिद में समय-समय पर उपद्रव करते हैं। ओर तो ओर शुक्रवार कीनमाज के दोरान उपद्रव करते हैं।गाजा के निवासियों के लिए प्रतिबन्ध अधिक कठोर हैं। इजरायली सरकार का दावा है कि सुरक्षा पर प्रतिबन्ध लगाए गए हैं।.

दुनिया की सबसे विवादित जगहों में से एक यरूशलेम (जेरूसलेम) की अल-अक्सा मस्जिद यहूदी, मुस्लिम और ईसाई तीनों धर्मों के लिए समान रूप से महत्व रखती है। एक के लिए, धर्म की शुरुआत ही यहीं से हुई…तो दूसरे के लिए ईश्वर का धरती से जुड़े रहने का एक मात्र रास्ता यहीं है…और तीसरे के लिए सबसे पवित्र मानी जाने वाली जगहों में से एक है।

यरूशलेम दुनिया के सबसे पुराने नगरों में से एक है और ये दुनिया में यहूदी, इसाई और मुस्लिम तीनों धर्मों को मानने वाले लोगों के लिए एक बेहद पवित्र जगह है। यहां पर यहूदी लोगों की मौजूदगी अधिक है। ये करीब 61 फीसद हैं और इस्‍लाम को मानने वाले अरब करीब 38 फीसद हैं। ईसाई धर्म में इस जगह की खासियत इसलिए है क्‍योंकि इसका संबंध यीशु के जीवन से है। विशेष तौर पर यीशु के जीवन के अंतिम दिनों से इस जगह का जुड़ाव माना जाता है। बेथलहम, फिलिस्तीन में जन्म के बाद यीशु को यरूशलेम लाया गया, जहां वो रहे, अपने अनुयायियों को उपदेश दिया, उन्हें सूली पर चढ़ाया गया और मृत्यु के उपरांत वो फिर से जी उठे। इसाई मानते हैं कि ‘चर्च ऑफ द होली स्कल्पचर’ उसी जगह पर बना है, जहां यीशु को मृत्यु के बाद जी उठने पर फिर से देखा गया था।

957 ईसा पूर्व इजराइल के राजा सोलोमन ने यहां एक भव्य मंदिर बनवाया था, जिसे आगे चलकर बेबीलोनियन सभ्यता के लोगों द्वारा नष्ट कर दिया गया। तकरीबन पांच सदी बाद 352 ईसा पूर्व यहूदियों ने फिर इसी जगह पर एक और मंदिर बनवाया जिसे द्वितीय मंदिर कहा गया। इसके अंदर के हिस्से को ही कहते हैं होली ऑफ होलीज़। लेकिन, रोमन्स ने इसे भी तोड़ दिया। पर इसकी एक दीवार को लोग आज भी उस प्राचीन टेम्पल के बाहरी अहाते का हिस्सा मानते हैं और पूजते हैं।

यरूशलेम के पुराने हिस्से में पहाड़ी के उपर स्थित आयताकार जगह में फैली इस मस्जिद को यहूदी ‘हर हवाइयत’ (Temple Mount या First Temple) कहते हैं। इसी जगह को मुस्लिम ‘हरम अल शरीफ’ कहते हैं। यहूदी मानते हैं कि इसी जगह में वो मिट्टी संजोई गई थी, जिससे एडम को बनाया गया था और जिससे इंसानों की भावी पीढ़ियां बढ़ीं। इसी मस्जिद के सामने है सुनहरे गुम्बद वाली इमारत जिसे कहते हैं ‘डोम ऑफ द रॉक’। ये दोनों ही इमारतें उसी आयताकार कम्पाउन्ड में है जिसे यहूदी अपने प्राचीन मंदिरों की लोकेशन मानते हैं।

सन् 632 ई में मुस्लिमों ने यरूशलेम पर हमला कर दिया। तब यहां बेजनटाइन साम्राज्य का राज था। जीतने के बाद उमईयत्त खलीफाओं ने यहां एक भव्य मस्जिद बनवाई और इसका नाम रखा अल-अक्सा। अरबी भाषा में अक्सा का मतलब होता है सबसे ज्यादा दूर।

1967 के युद्ध के बाद टेम्पल माउन्ट के बाहर खुदाई हुईं। 1970 में, इजराइल के अधिकारियों ने दक्षिणी और पश्चिमी दोनों ओर मस्जिद के बगल में दीवारों के बाहर गहन खुदाई शुरू की। पैलेसस्टीनियों का मानना था कि अल-अक्सा मस्जिद के नीचे सुरंगों को खोला जा रहा था जो नींव को कमजोर करने के लिए है, जिसे इस्राएलियों ने अस्वीकार कर दिया था, जिन्होंने दावा किया था कि मस्जिद के निकटतम खुदाई दक्षिण में लगभग 70 मीटर (230 फीट) थी। इजराइल के धार्मिक मामलों के मंत्रालय के पुरातत्व विभाग ने एक सुरंग खोद दी 1984 में मस्जिद के पश्चिमी हिस्से में। यूनेस्को के विशेष दूत यरुसलम में ओलेग ग्रैबर के अनुसार, टेम्पल माउण्ट पर इमारतों और संरचनाएँ ज्यादातर इज़राइली, फिलिस्तीनी और जॉर्डन सरकारों के बीच विवादों के कारण बिगड़ रही हैं।

फरवरी 2007 में, विभाग ने एक ऐसे स्थान पर पुरातात्विक अवशेषों के लिए एक स्थल को खोदना शुरू किया जहाँ सरकार एक पैदल यात्री पुल का पुनर्निर्माण करना चाहता थी, जो मुगबरी गेट की ओर अग्रसर था, जो कि गैर-मुसलमानों के लिए टेम्पल माउण्ट परिसर में प्रवेश द्वार था। यह साइट 60 थी मस्जिद से मीटर (200 फीट) दूर। खुदाई ने इस्लामी दुनिया भर में क्रोध हुआ, और इज़राइल पर मस्जिद की नींव को नष्ट करने का प्रयास करने का आरोप लगाया गया था।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार