Wednesday, May 22, 2024
spot_img
Homeखबरेंअमित धारीवाल का आरोप, कोटा का विकास देखकर बौखला रहे हैं...

अमित धारीवाल का आरोप, कोटा का विकास देखकर बौखला रहे हैं पूर्व विधायक

कांग्रेस नेता अमित धारीवाल ने कहा है कि कोटा का ऐतिहासिक विकास देखकर पूर्व विधायक प्रहलाद गुंजल बौखला गए हैं, शहर में चल रहे अभूतपूर्व विकास कार्यों से आमजन को मिलने वाली राहत उनको और भाजपा को रास नहीं आ रही है इसीलिए महंगाई जैसे मूल मुद्दे से लोगों का ध्यान भटकाने के लिए मनगढ़ंत आरोप लगाकर अपनी राजनीति चमकाने की जुगत में पूर्व विधायक लगे हुए हैं लेकिन जनता सब जानती है शहर का सुनियोजित विकास कितने बड़े पैमाने पर चल रहा है, यहाँ खुद के लिए महल नहीं बनाया जा रहा है। आमजन को सुनियोजित विकास का लाभ दिया जा रहा है, और जहां तक मेरी जानकारी है विकास के कई कार्य अभी और होने बाकी हैं लेकिन पूर्व विधायक को आमजन को हो रही पेट्रोल डीजल घरेलू गैस सहित अन्य उत्पादों पर बढ़ी महंगाई से कोई वास्ता नहीं, बेहतर होता वह महंगाई के मुद्दे पर सड़क पर उतर कर आंदोलन करते, गरीब जनता को राहत दिलवाने के लिए आंदोलन करते , लेकिन वो सिर्फ अपनी बौखलाहट से तंग आकर विकास के कार्यों पर मनगढ़ंत आरोप लगाकर अपनी राजनीति चमकाना चाहते हैं।

कांग्रेस नेता अमित धारीवाल ने बयान जारी कर कहा है कि विधायक प्रहलाद गुंजल के पास भाजपा की सरकार के वक्त विधायक रहते करवाए गए कोई काम ही नही है जो वह जनता के सामने रखें फिलहाल शहर में चल रहे विकास कार्यों को देख देख कर पार्टी से अलग-थलग पड़े पूर्व विधायक गुंजल अपने भविष्य की राजनीति को लेकर भी खासे परेशान नजर आते हैं और अपनी सारी बौखलाहट चारों ओर दिख रहे विकास के कार्यों पर निकालने की नाकाम कोशिश करते रहते हैं कोटा मैं जो विकास के कार्य चल रहे हैं वह किसी से छिपे नहीं है आजादी के बाद से अब तक जितने विकास के कार्य कोटा में करवाए जा रहे हैं वो अभूतपूर्व हैं। कोटा में करवाए जा रहे विकास कार्य कोटा वासियों के लिए पीढ़ियों तक फायदेमंद होंगे यही विकास बीजेपी की बौखलाहट का कारण बन हुआ है। भाजपा राज में हुए कार्यों को बताने के लिए ना तो भाजपा के पास कोई जवाब है और न ही पूर्व विधायक प्रहलाद गुंजल के पास कि उन्होंने विधायक रहते क्या काम करवाए हैं, हां यह जरूर है कि विकास से तो नहीं विवादों से जरूर इनका नाता रहा है यह शहर की जनता भी जानती है और भारतीय जनता पार्टी भी।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार