Friday, April 19, 2024
spot_img
Homeसूचना का अधिकारमध्य रेलवे का प्रति एस्केलेटर रख-रखाव 2.97 लाख पश्चिम रेलवे का केवल...

मध्य रेलवे का प्रति एस्केलेटर रख-रखाव 2.97 लाख पश्चिम रेलवे का केवल 1.85 लाख

सेंट्रल रेलवे को सालाना 1.13 करोड़ का आर्थिक नुकसान
हालांकि मुंबई उपनगरीय रेलवे सेवा में एस्केलेटर यात्रियों की सुविधा के लिए लगाए गए हैं, लेकिन उनमें हमेशा खराबी रहती है। आरटीआई कार्यकर्ता अनिल गलगली को रेलवे प्रशासन ने बताया कि पश्चिम रेलवे एक एस्केलेटर के रखरखाव पर सालाना 1.85 लाख रुपये खर्च करता है, जबकि मध्य रेलवे 2.97 लाख रुपये खर्च करता है।

आरटीआई कार्यकर्ता अनिल गलगली ने मध्य और पश्चिम रेलवे प्रशासन से एस्केलेटर के संबंध में विभिन्न जानकारी मांगी थी। पश्चिम रेलवे के वरिष्ठ मंडल विद्युत अभियंता शकील अहमद ने अनिल गलगली को बताया कि चर्चगेट और विरार के बीच 106 एस्केलेटर हैं। एक एस्केलेटर की रखरखाव लागत 1.85 लाख प्रति वर्ष है। वहीं मध्य रेलवे के वरिष्ठ मंडल विद्युत अभियंता एचएस सूद ने अनिल गलगली को बताया कि सीएसटीएम से कल्याण और सीएसटीएम से वाशी के बीच 101 एस्केलेटर हैं। एक एस्केलेटर की वार्षिक रखरखाव लागत 2.97 लाख है।

एस्केलेटर 1825 बार रुकता है
पश्चिम रेलवे ने एस्केलेटर बंद होने की जानकारी देते हुए बताया है कि एक साल में 1825 एस्केलेटर बंद होते हैं। 95 प्रतिशत मामलों में किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा आपातकालीन बटन बंद करने से एस्केलेटर बंद हो जाता है। मध्य रेलवे के एचएस सूद ने माना है कि बंद एस्केलेटर की जानकारी का विवरण नहीं है। विशेष दिनों पर बंद किए गए एस्केलेटर की जानकारी अनुरोध पर प्रदान की जा सकती है।

अनिल गलगली ने मुंबई में 2 रेलवे के तहत एस्केलेटर के रखरखाव लागत में 1.12 लाख के अंतर पर आश्चर्य व्यक्त किया। इससे मध्य रेलवे को प्रति वर्ष 1.13 करोड़ का आर्थिक नुकसान हो रहा है। इस संबंध में उन्होंने रेलवे प्रशासन से जांच कर संबंधित अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है. इस बात को लेकर नाराजगी जताई गई है कि सुविधा के लिए लगाए गए एस्केलेटर ज्यादातर व्यस्त समय में बंद रहते हैं, जिससे यात्रियों को परेशानी होती है।

(लेखक आईटीआई कार्यकर्ता हैं।)

 

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार