Friday, April 19, 2024
spot_img
Homeसूचना का अधिकार8 महीने बाद भी कागजों पर 5 लाख का बीमा!

8 महीने बाद भी कागजों पर 5 लाख का बीमा!

मुंबई: राज्य सरकार महात्मा ज्योतिबा फुले सार्वजनिक स्वास्थ्य योजना (MJPJAY) की बीमा राशि 1.5 लाख रुपये से बढ़ाकर 5 लाख रुपये करने की घोषणा की गई। 8 महीने बीत गए, लेकिन कवर राशि केवल कागजों पर बढ़ी है, लोगों को अभी भी केवल 1.5 लाख रुपये का बीमा कवर मिल रहा है। हाल ही में प्रशासन ने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर 5 लाख रुपये का कवर लागू करने की इजाजत मांगी है।

पिछले साल जून में ही महाराष्ट्र सरकार ने MJPJAY की कवर राशि 1.5 लाख रुपये से बढ़ाकर 5 लाख रुपये करने की घोषणा की थी। यह सिर्फ एक घोषणा थी, लेकिन कोई आधिकारिक आदेश जारी नहीं किया गया था। इसके बाद आरटीआई कार्यकर्ता अनिल गलगली ने सरकार को पत्र लिखकर अध्यादेश जारी करने का अनुरोध किया था। इस संबंध में 28 जुलाई को एक अध्यादेश भी जारी किया गया था। जैसा कि कवर राशि में वृद्धि की गई है, अब नई स्वास्थ्य बीमा कंपनी का चयन किया जाएगा और प्रस्तावों के लिए अनुरोध किया जाएगा और एक महीने के भीतर कंपनी का चयन किया जाएगा, जिसके बाद नया स्वास्थ्य कवर लागू किया जाएगा। इस घोषणा के 8 महीने बाद भी 5 लाख रुपये का कवर लागू नहीं हो सका है.। राज्य स्तर पर इस योजना के तहत 5 लाख रुपये के कवर की घोषणा अच्छी थी, लेकिन घोषणा के बाद जमीनी स्तर पर इसके कार्यान्वयन में देरी के कारण राज्य के लोगों को अभी तक इसका लाभ नहीं मिल पाया है।

सरकार ने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर नई नीति लागू करने की मंजूरी मांगी थी। हालांकि देरी को लेकर कोई स्पष्ट जवाब नहीं दिया गया।।इस संबंध में आरटीआई कार्यकर्ता अनिल गलगली ने कहा कि सरकार ने घोषणा की थी, लेकिन जीआर जारी नहीं किया गया, मेरी शिकायत के बाद अध्यादेश जारी किया गया था। सरकार को घोषणा करने से पहले विवरण और योजना बनाने की जरूरत है। दुर्भाग्यवश कंपनी से अनुबंध न होने के कारण आम जनता आज भी परेशान है। अब गलगली का कहना है कि चुनाव आयोग तुरंत अनुमति दे ताकि लोगों को इसका फायदा मिल सके।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार