Friday, May 24, 2024
spot_img
Homeखेल की दुनियागर्मी की छुट्टियों में वह सिर्फ अपना वज़न कम करने के लिए...

गर्मी की छुट्टियों में वह सिर्फ अपना वज़न कम करने के लिए मैदान पर आया करता था और आज वह भारतीय टीम का हिस्सा है।

बचपन के दोस्त, किसी भी दूसरे इंसान के मुकाबले आपके और आपके सीक्रेट्स के बारे में कहीं अधिक जानते हैं, इसलिए आपके जीवन के कुछ बेहतरीन किस्से उनसे ही पता चलते हैं। कुलदीप यादव एक ऐसा ही उदाहरण हैं। कुलदीप यादव पर बनाए गए वेबिसोड (क्रिकबज़ के शो स्पाइसी पिच का हिस्सा) में, इनके सबसे अच्छे दोस्त सत्यम दीक्षित ने इस युवा स्पीनर के जीवन और क्रिकेटर बनने के सफ़र के अनसुने किस्से सुनाए।

दीक्षित ने बताया, “जब कुलदीप बच्चे थे, तब वे लखनऊ के बोर्डिंग स्कूल में पढ़ा करते थे। जब वे गर्मी की छुट्टियों में घर आए तो थोड़े गोल–मटोल से दिख रहे थे। उनके चाचा जी ने यह सोचा कि गर्मी के दिनों में क्रिकेट के मैदान में दौड़–भाग करेगा तो इसका वज़न थोड़ा कम हो जाएगा, इसलिए इन्हें लेकर ग्राउंड पर आ गए। और इस तरह इनके अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के सफ़र की शुरुआत हुई।”

लेकिन यादव के सफ़र में अभी बहुत सी परेशानियां थीं। उनके पिता जी का ईंट भट्टे का काम था और उन्हें अपने व्यवसाय/ बिज़नेस में घाटा हुआ। इसकी वज़ह से उनके परिवार की आर्थिक स्थिति बहुत अच्छी नहीं रह गई।

दीक्षित याद करते हुए बताते हैं कि, “जब कुलदीप पंद्रह (15) साल के थे, तो उन्हें कम्पेटटिवली (प्रतिस्पर्धी) खेलने के लिए स्पाइक्स की जरूरत थी लेकिन उनके पास उसकी एक जोड़ी खरीदने तक के पैसे नहीं थे। कुलदीप की एक बहुत अच्छी बात यह है कि सफल होने के बाद भी उन्होंने अपने संघर्ष को नहीं भुलाया है। आज भी क्रिकेट के मैदान पर यदि कोई युवा खिलाड़ी अपने लिए खेल से जुड़े सामान (गियर) नहीं खरीद पाता–– चाहे वह स्पाइक्स हों या टी–शर्ट या फिर एक बैट– तो कुलदीप उसे यह सामान खरीद कर दे देते हैं। इन्होंने बहुत संघर्ष किया है और कभी किसी को “ना” नहीं कहते।”

बेशक यादव ने अपने क्रिकेट करिअर में एक लंबा सफर तय किया है, लेकिन उनकी निज़ी जिंदगी कैसी रही है? दीक्षित शरारत से मुस्कुरा देते हैं और बताते हैं, “वो अक्सर अपने पिताजी के साथ ही कहीं जाता था लेकिन कभी– कभी उसे “किसी” से मिलना होता था। तब वह मुझे अपने साथ ले जाता था ताकि उसे कोई परेशानी न हो। मैं इससे ज्यादा आपको नहीं बता सकता। मैं बस यही कह सकता हूँ कि उसका क्रिकेट करिअर सही दिशा में बढ़ रहा है और मुझे पूरा यकीन है कि उसके जीवन में जल्द ही शहनाईयां गूंजेंगी।”

यादव के जीवन, परिवार और क्रिकेट करिअर के बारे में अन्य रोमांचक जानकारियों के लिए क्रिकबज़ के नए शो स्पाइसी पिच का लेटेस्ट एपिसोड देखें। यह शो क्रिकबज़ की वेबसाइट और एप दोनों पर शनिवार 2 मई से उपलब्ध है।

लिंक: Kuldeep Yadav Episode

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार