Tuesday, April 23, 2024
spot_img
Homeपाठक मंचइतना पैसा आता कहाँ से है?

इतना पैसा आता कहाँ से है?

आश्चर्य होता है यह देखकर कि पिछले दिनों अकूत सम्पति के रूप में जो नोटों के बंडल, सोने के बिस्कुट, ज़ेवर आदि कुछ ‘महानुभावों’ के यहाँ छापों के दौरान पकड़े गए, उन तक जांच एजेंसियों की नज़र अभी तक क्यों नहीं पड़ सकी? पहले इस ओर ईडी, सीबीआई आदि का ध्यान क्यों नहीं गया? इधर,अपने बचाव में ये ‘महानुभाव’ छापे मारने की कवायद को राजनीति से जोड़ रहे हैं। यानी दोषी और जगह भी मौजूद हैं और उन्हें नहीं पकड़ा जा रहा। यह तर्क जितना खोखला है उतना ही असंगत भी।और ‘महानुभाव’ पकड़ में नहीं आ रहे,उसका मतलब यह तो नहीं कि आप निर्दोष हैं। देर-सवेर वे भी गिरफ्त में आ जाएंगे।

छापे चलते रहने चाहिए ताकि देश का काला और छिपा धन सामने आये और उसका उपयोग देश के विकास-कार्यों के लिए किया जा सके।आये दिन छापों के दौरान पकड़ी करोड़ों-करोड़ों रुपयों की गड्डियाँ देख विस्मित होने के साथ-साथ लगता है कि देश का भाग्य बदलने वाला है!

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार