Sunday, March 3, 2024
spot_img
Homeसोशल मीडिया सेकभी किसी ने सजाव दही खाया है ...

कभी किसी ने सजाव दही खाया है …


मीडिया डेस्क

पैकेट वाली दही के जमाने में लोग क्या जानेंगे असली दही कैसा होता था! बात पुराने समय की है, जब दिसंबर की ठंडी शुरू होती थी और दही आसानी से नहीं जमता था। फिर दादी और नानी एक बड़े बर्तन में दूध को उबलती थीं। दूध उबलने के लिए विशेष बर्तन जो मट्टी का बना होता था, खास तौर पे मट्टी का मटका और अब इसे एक गोहरी (उपले) की भट्टी पर रखा जाता था। गोहरी की भट्टी की आंच एकदम धीमी होती और इस आंच को कम रखना भी अपने आप में एक कला होती थी जो की तजुर्बे के साथ ही आती थी, किसी के पास कोई सेट फॉर्मूला नही होता था इसे सही से करने का।

इसी आंच पर दूध सुबह से लेके शाम तक पकता और पकते पकते लाल हो जाता। और शाम को भट्टी की गुनगुनाहट में इसमें दही का जमान डाला जाता और इसे ऐसे ही छोड़ देते हैं पूरी रात। और सुबह जो चीज निकल के आती है उसे बोलते हैं सजाव दही। आज को जनरेशन पैकेट वाले दूध और पैकेट वाले दही के आगे इसे नही जानेंगे, इनका दुर्भाग्य है की इतने बेहतरीन स्वाद वाले खाने को इन्होंने कभी चखा नही जिसके स्वाद को सिर्फ महसूस किया जा सकता है, बताया नही जा सकता।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार