Thursday, February 29, 2024
spot_img
Homeचर्चा संगोष्ठीरीवा के महाविद्यालय में हिंदी कविता पर व्याख्यान

रीवा के महाविद्यालय में हिंदी कविता पर व्याख्यान

विंध्य के ऐतिहासिक महाविद्यालय, शासकीय ठाकुर रणमत सिंह महाविद्यालय, रीवा के हिन्दी विभाग की वरिष्ठ प्राध्यापक प्रो. डाॅ. शिप्रा द्विवेदी ने हिंदी विभाग,
विज्ञान एवं मानविकी संकाय, एस. आर. एम. आई. एस. टी., कट्टनकुलाथुर के तत्वाधान में आयोजित ‘‘आधुनिक हिन्दी कविता का परिवेश स्वतंत्रता पूर्व और पश्चात्’’ विषय पर विशेष व्याख्यान दिया।

प्रो द्विवेदी ने 19 वीं शताब्दी के मध्य से लेकर समकालीन कविता तक के काव्य की विकास यात्रा पर युगीन परिवेश पर केन्द्रित व्याख्यान दिया। साथ ही कवियों एवं काव्यगत विशेषताओं पर भी संक्षिप्त सारगर्भित व्याख्यान दिया। आगे द्विवेदी जी ने विविध पहलुओं को भी अपने व्याख्यान में समाहित किया, जैसे सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक स्थिति एवं दलित चेतना का, इन सभी का बड़ी बारीकी से समझाया और ज्ञान पर महत्वपूर्ण जानकारी हम सभी को दी। स्वागत डाॅ0 एस0 प्रीति ने तथा संचालन डाॅ.0 रजिया एवं आभार प्रदर्शन डाॅ. इस्लाम ने किया।

संपर्क
डॉ. एस, रज़िया बेगम
सहायक प्राध्यापक
हिंदी विभाग, विज्ञान एवं मानविकी संकाय
एस.आर.एम. आई. एस. टी

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES

1 COMMENT

  1. बहुत ही सार्थक पहल ?????????

Comments are closed.

- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार