Saturday, May 25, 2024
spot_img
Homeप्रेस विज्ञप्तिडॉ. सिंघल "लाइफ टाइम अचीवमेंट अवॉर्ड 2024" से सम्मानित

डॉ. सिंघल “लाइफ टाइम अचीवमेंट अवॉर्ड 2024” से सम्मानित

कोटा। सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के पूर्व ज्वाइंट डायरेक्टर डॉ.प्रभात कुमार सिंघल को इनके जीवन की उत्कृष्ठ सेवाओं और उपलब्धियों के लिए “लाइफ टाइम अचीवमेंट अवॉर्ड -2024” से सम्मानित किया गया। कला-संस्कृति, पर्यटन, इतिहास, पुरातत्व ,साहित्य लेखन की उपलब्धियों के लिए यह सम्मान अंतर्राष्ट्रीय समरस साहित्य सृजन संस्थान भारत, गांधीनगर, गुजरात द्वारा सोमवार को राजकीय सार्वजनिक मंडल पुस्तकालय के सभागार में आयोजित राष्ट्रीय अधिवेशन में प्रदान किया गया।

संस्थान के ट्रस्टी प्रकांड ज्योतिषाचार्य प. प्रेम शंकर व्यास ,’पंकज’, संस्थापक और राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ.मुकेश कुमार व्यास ‘स्नेहिल’ मुख्य अथिति उप वन संरक्षक तरुण मेहरा, और पुस्तकालय अध्यक्ष डॉ. दीपक कुमार श्रीवास्तव ने माल्यार्पण कर शॉल ओढ़ा कर सम्मान पत्र प्रदान कर डॉ. सिंघल को सम्मानित किया। विशिष्ठ अथिति के रूप में कटनी मध्यप्रदेश के आनंद जैन ‘अकेला’, भोपाल के अक्षय बंसल, अहमदाबाद गुजरात की डॉ. उमा सिंह किसलय, गांधीनगर गुजरात की श्रीमती अर्चना व्यास, उदयपुर राजस्थान की डॉ. कामिनी व्यास ‘रावल’ एवं धौलपुर राजस्थान की रजनी शर्मा उपस्थित रहे।

संस्थान के ट्रस्टी प. प्रेम शंकर ने कहा डॉ. सिंघल जैसे व्यक्तित्व का सम्मान करते हुए हम अपने को गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं। अध्यक्ष डॉ. मुकेश ने कहा कि 45 सालों से लेखन और पत्रकारिता से जुड़ कर विभिन्न विषयों पर 33 पुस्तकें लिखना अपने आप में बड़ी उपलब्धी है। संस्थान आपके अद्वितीय कार्य की सराहना करता है। डॉ.दीपक श्रीवास्तव ने कहा कि विनम्र, व्यवहारकुशल और लेखन में निरंतर सक्रिय रहने वाले डॉ. सिंघल विभिन्न क्षेत्रों की प्रतिभाओं को उजागर करने में सक्रिय रहते हैं।

वरिष्ठ साहित्यकार जितेंद्र ‘निर्मोही’ ने कहा कि ये इतिहास, संस्कृति,पर्यटन और साहित्य के अनूठे अध्ययेता हैं। इनका लेखन गणवेषणात्मक और मूल्यपरक हैं।

कथाकार और समीक्षक विजय जोशी ने इन्हें जनसंपर्क,पर्यटन और साहित्य की त्रिवेणी बताते हुए कहा कि बहुत कम ऐसा होता है कि व्यक्ति अपनी आजीविका के साथ अपनी रुचि और रुझान को समन्वित कर सफलता पूर्वक कर्तव्य का निर्वहन करता रहे। जनसंपर्क विभाग में “प्रभावी जनसंपर्क कर्मी” की छवि बना कर सेवा निवृत के बाद सतत लेखन से “पर्यटन लेखक” के रूप में विख्यात हुए ही साथ ही साहित्यिक संदर्भों में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।

साहित्यकार स्नेहलता शर्मा, महेश पंचोली, साहित्यकार महेश पंचोली, गरिमा गौतम, बाबूलाल वर्मा, हेमचंद ‘हेम’, दीनबंधु परालिया, प्रेम लता स्वामी, साधना शर्मा, रेणु सिंह ‘राधे’ ने भी बधाई देते हुए कहा कि यह हाड़ोती अंचल के लिए गर्व की बात है कि डॉ. सिंघल क्षेत्र के साहित्यकारों के साहित्यिक अवदान को देश भर में उजागर कर रहे हैं। इस अवसर पर बड़ी संख्या में भारत के विभिन्न राज्यों से आए साहित्यकार और प्रबुद्धजन उपस्थित रहे।

लाइफ टाइम अचीवमेंट अवॉर्ड मिलने पर डॉ. सिंघल को देश भर से बधाइयां मिल रही हैं। जयपुर से पूर्व आइएएस डॉ. धर्मेंद्र भटनागर एवं आरसी जैन, इतिहासकार डॉ.बृज कुमार शर्मा, राजस्थान जनसंपर्क विभाग के पूर्व वरिष्ठ अधिकारी बाल मुकुंद ओझा, प्यारे मोहन त्रिपाठी, नटवर त्रिपाठी, झालावाड़ से इतिहासकार ललित शर्मा, मुंबई से लखनऊ से वरिष्ठ पत्रकार विमल पाठक, उदयपुर से वरिष्ठ पत्रकार वीरेंद्र श्रीवास्तव ने सिंघल को बधाइयां प्रेषित की है। कोटा से अनेक समाजसेवियों, उद्यमियों, चिकित्सकों, पत्रकारों, साहित्यकारों और गणमान्य नागरिकों ने बधाइयां और शुभकामनाएं दी हैं।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार