Tuesday, April 23, 2024
spot_img
Homeखबरेंमहातपस्वी महाश्रमण के मंगल सन्निधि में बाम्बे हॉस्पिटल में आयोजित हुआ नशामुक्ति...

महातपस्वी महाश्रमण के मंगल सन्निधि में बाम्बे हॉस्पिटल में आयोजित हुआ नशामुक्ति कार्यक्रम

कष्टों से मुक्ति हेतु राग-द्वेष का करें उन्मूलन : शांतिदूत आचार्यश्री महाश्रमण

-पूज्य सन्निधि में उमड़े मुंबई प्रशासन, डॉक्टर्स, व सिने जगत के गणमान्य व्यक्तित्व
-शांतिदूत का आशीष प्राप्त आह्लादित दिखे उपस्थित गणमान्य

 

मुंबई: सद्भावना, नैतिकता और नशामुक्ति की अलख जागने वाले, एक करोड़ से ज्यादा लोगों को नशामुक्ति को संकल्प कराने वाले, राष्ट्रसंत, कुशल समाज सुधारक, जैन श्वेतांबर तेरापंथ धर्मसंघ के एकादशमाधिशास्ता आचार्यश्री महाश्रमणजी की मंगल सन्निधि में मुंबई महानगर की विकराल समस्या ड्रग्स से लोगों को निवारित करने हेतु अणुव्रत विश्व भारती सोसायटी द्वारा नशामुक्ति का एलिवेट कार्यक्रम आयोजित किया गया।

10 दिसंबर यानी मंगलवार की शाम मुंबई के प्रख्यात चिकित्सा केंद्र बाम्बे हॉस्पिटल के बिरला मातुश्री सभागार में आयोजित इस कार्यक्रम में संभागी बनने हेतु बॉम्बे हॉस्पिटल के चेयरमेन बीके तापड़िया, एलआईसी के चेयरमेन सिद्धार्थ मोहंती, मुंबई के संयुक्त पुलिस आयुक्त सीपी सत्यनारायण चौधरी, बीएमसी के म्युनिसिपल कमिश्नर इकबाल सिंह चहल, अभिनेता सुनील शेट्टी, संगीतकार अन्नु मलिक जैसी नामचीन विभूतियों और अनेक डॉक्टर्स एवं आम जनता ने शिरकत की।

मंगल महामंत्रोच्चार के साथ हुआ शुभारंभ
एलिवेट कार्यक्रम का शुभारंभ युगप्रधान आचार्यश्री महाश्रमणजी के मंगल महामंत्रोच्चार के साथ हुआ। एलिवेट से संदर्भित वीडियो प्रदर्शित की गई। इस कार्यक्रम के संयोजक व बाम्बे हॉस्पिटल के सिनियर फिजिशियन डॉ. गौतम भंसाली ने स्वागत के संदर्भ में अभिव्यक्ति दी।

नशामुक्ति के अभियान में आचार्यश्री का आशीर्वाद महत्त्वपूर्ण : ज्वाइंट सीपी सत्यनारायण चौधरी
मुंबई के ज्वाइंट सीपी श्री सत्यनारायण चौधरी ने कहा कि ड्रग्स फ्री मुंबई का अभियान महाराष्ट्र सरकार व पुलिस भी चला रही है, किन्तु आज यह जो कार्यक्रम आचार्यश्री महाश्रमणजी की सन्निधि में आयोजित हो रहा है, यह महत्त्वपूर्ण है। ड्रग्स का नशा जाति, धर्म, अमीर, गरीब देखकर नहीं, बल्कि सभी में समान रूप फैल रहा है। मुंबई पुलिस ने 2000 से ज्यादा स्कूलों मंे इसके जागरूकता का प्रयास किया, किन्तु सबसे महत्त्वपूर्ण इसमें आचार्यश्री का मंगल आशीर्वाद है। आपकी प्रेरणा लोगों के मन तक पहुंचती है, जो लोगों को मुक्त कराने में सार्थक सिद्ध हो सकता है।

शारीरिक स्वास्थ्य का सम्बन्ध है चेतना से : शांतिदूत आचार्यश्री महाश्रमण
महातपस्वी, शांतिदूत आचार्यश्री महाश्रमणजी ने उपस्थित विशिष्ट लोगों, डाक्टर्स और उपस्थित जनता को पावन पाथेय प्रदान करते हुए कहा कि दुनिया में सुख भी है तो दुःख भी है। दुःख से आदमी को अच्छी प्रेरणा प्राप्त हो सकती है। जीवन में कष्ट, कठिनाई आती है तो आदमी सम्भलता है, कठिनाइयों से पार पाने प्रयास कर सकता है और इससे वह मजबूत बनता है। जीवन में कभी शारीरिक, मानसिक दुःख होता है। जीवन के सभी प्रकार दुःखों के मूल में राग-द्वेष ही होते हैं। राग-द्वेष की कर्म के बीज भी हैं। इस कर्मों के बीज राग-द्वेष का उन्मूलन कर दिया जाए तो आदमी दुःखों से मुक्त हो सकता है। शारीरिक कष्ट को एक बार तो डॉक्टर दवा आदि के द्वारा ठीक भी कर दे, किन्तु मानसिक कष्ट को दूर कर पाना उनके वश की बात नहीं होती। राग-द्वेष को अध्यात्म के द्वारा दूर किया जा सकता है। इसके नाश के लिए संवर-निर्जरा की साधना करने का प्रयास करना चाहिए।

ईमानदारी मानों आध्यात्मिक चिकित्सा का केन्द्र है। आदमी को ईमानदारी रखने का प्रयास करना चाहिए। आदमी किसी भी प्राणी को दुःख नहीं दे, पूर्णतया अहिंसा का पालन करने का प्रयास हो। आदमी को अपने गुस्से पर नियंत्रण रखने का प्रयास करना चाहिए। मानव जीवन में संयम भी होना चाहिए। जीवन संयमित हो, अहिंसा की चेतना हो, जीवन में ईमानदारी हो। जीवन में नशामुक्तता रहे।

संतों से मिले प्रेरणा तो समाज होगा नशामुक्त : सिद्धार्थ मोहंती
भारतीय जीवन बीमा निगम के चेयरमेन श्री सिद्धार्थ मोहंती ने कहा कि मुझे महान संत आचार्यश्री महाश्रमणजी के दर्शन का सौभाग्य प्राप्त हुआ। आप जैसे संत-मुनि से आध्यात्मिक प्रेरणा मिले तो समाज नशे से मुक्त हो जाएगा।

आचार्यश्री की प्रेरणा पूर्णतया सत्य : डॉ. फारूख सी उदवाड़िया
मैं परम पूज्य आचार्यश्री महाश्रमणजी की बात से पूर्णतया सहमत हूं कि परिवार अच्छे से ध्यान रखे, परस्पर अच्छा संबंध रहे, परिजन अपने बच्चों का ध्यान रखें तो बच्चों का नशे से बचाव हो सकता है। जीवन में आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त हो तो नशामुक्तता रह सकती है। मैं आचार्यश्री द्वारा दी गई प्रत्येक प्रेरणा से प्रभावित हूं।

परम सौभाग्य की बात कि आपके चरण यहां पड़े : चेयरमैन बीके तापड़िया
बाम्बे हॉस्पिटल के चेयरमैन ने कहा कि मैं परम पूज्य आचार्यश्री महाश्रमणजी का अपने हॉस्पिटल परिसर में हार्दिक स्वागत करता हूं। यह हम सभी का सौभाग्य है कि आपके कल्याणकारी चरण यहां पड़े हैं। आप हमारे डॉक्टरों का ऐसा आशीर्वाद प्रदान करें हम आगे भी जनता की सेवा करते रहें।

आचार्यश्री की बात दिल पर लगी : संगीतकार अन्नु मलिक
आज आचार्यश्री की बात दिल पर लगी। मैं अपने जीवन में सच बोलने के कारण मार खाई है, फिर भी सच ही बोलता हूं। थोड़ा गुस्सा जरूर आता है, लेकिन आचार्यश्री की प्रेरणा से दूर करने का प्रयास करूंगा। श्री मलिक ने ड्रग्स निवारण के संदर्भ में आचार्यश्री से प्रेरणा लेकर तुरंत रचित एक गीत की कुछ पंक्तियां सुनाईं।

इसके अलावा प्रसिद्ध अभिनेता श्री सुनील शेट्टी, न्यूरो के डीन व डॉ. एसवी खाडीकर, एमएमआरडीए के कमिश्नर श्री संजय मुखर्जी, अणुव्रत विश्व भारती आध्यात्मिक पर्यवेक्षक मुनि मननकुमारजी, मुनि अभिजितकुमारजी, मुनि जागृतकुमारजी, अणुविभा के अध्यक्ष श्री अविनाश नाहर, ट्रस्टी श्री सुमतिचंद गोठी ने अपनी अभिव्यक्ति दी। श्री अशोक कोठारी ने आभार ज्ञापित किया। इस कार्यक्रम का संचालन मुनि कुमारश्रमणजी ने किया। आचार्यश्री ने मंगलपाठ सुनाने से पूर्व अणुव्रत गीत का आंशिक संगान किया।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार