Tuesday, April 23, 2024
spot_img
Homeप्रेस विज्ञप्तिपश्चिम रेलवे की "कुली नंबर 1" पहल

पश्चिम रेलवे की “कुली नंबर 1” पहल

लाइसेंसधारी सहायकों और यात्रियों के बीच बेहतर संपर्क सुनिश्चित करने हेतु शानदार पहल

मुंबई। पश्चिम रेलवे के मुंबई मंडल द्वारा एक शानदार पहल में लाइसेंसधारी सहायकों और सम्माननीय यात्रियों को पारस्परिक रूप से लाभान्वित करने के उद्देश्य से “कुली नंबर 1” नामक पहल शुरू की गई है। लाइसेंसधारी सहायक भारत में रेल प्रणाली में एक अभिन्न भूमिका निभाते हैं और लंबी दूरी की ट्रेन के यात्रियों के समग्र ट्रेन यात्रा अनुभव में एक महत्वपूर्ण अहमियत जोड़ते हैं।

पश्चिम रेलवे के जनसंपर्क विभाग द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार मुंबई मंडल द्वारा हाल ही में लॉन्च की गई “कुली नंबर 1” पहल में अग्निशमन एवं आपातकालीन प्रतिक्रिया जैसे कार्डियो पल्मोनरी रिससिटेशन (CPR) का प्रशिक्षण, यात्रियों और उनके सामानों की सुरक्षा, सहायकों का व्यक्तित्व विकास और ग्राहकों के साथ सकारात्मक संवाद स्‍थापित करना, यात्रियों की जरूरत के अनुसार बेहतर प्रतिसाद, रेलवे द्वारा निर्धारित निष्पक्ष और व्‍यावहारिक मानदंडों का पालन, डिजिटल भुगतान, लाइसेंसधारी सहायकों के बायोमेट्रिक डेटा को मेंटेन रखने के बारे में जागरूकता प्रदान करने जैसे डिजिटल समावेशन तथा स्टेशन एवं परिसर को स्‍वच्‍छ रखने के बारे में जागरूकता पैदा करने और स्वच्छता गतिविधियों में भागीदारी द्वारा स्‍वच्‍छता ही सेवा अभियान में उन्‍हें शामिल करने जैसे कई महत्‍वपूर्ण उद्देश्‍यों को प्राप्‍त करने के प्रयास किए जा रहे हैं। यह पहल 11 अक्टूबर को श्री गणेश जाधव, वाणिज्‍य निरीक्षक (CMI), सूरत द्वारा सूरत स्टेशन पर एक पायलट प्रयोग के रूप में शुरू की गई थी, जो संयोगवश महान अभिनेता श्री अमिताभ बच्चन की जन्मतिथि है, जिन्होंने 1983 की अपनी प्रसिद्ध फिल्म “कुली” में रेल सहायक की भूमिका निभाई थी। सूरत स्टेशन पर सफल पायलट प्रयोग के बाद से अब इस पहल का विस्तार मुंबई सेंट्रल और बांद्रा टर्मिनस स्टेशनों पर लाइसेंसधारी सहायकों को शामिल करने के लिए किया गया है।

इस पहल के अंतर्गत एक सर्वेक्षण आयोजित किया जाता है जहां इच्छुक यात्रियों से लाइसेंसधारी सहायक की सेवाओं का उपयोग करने के बाद एक फीडबैक फॉर्म भरने का अनुरोध किया जाता है। फीडबैक फॉर्म में अन्य विवरणों के अलावा सहायक का बकल नंबर, रेटिंग, सेवा आदि जैसे विवरण भरे जाते हैं। इन फीडबैक फॉर्मों से एकत्र किए गए डेटा के आधार पर एक सहायक का चयन किया जाता है और उसे “महीने का कुली नंबर 1” के रूप में प्रमाणित किया जाता है। इसके अतिरिक्त, किसी भी नकारात्मक टिप्पणी की स्थिति में प्रशासन चेतावनी जारी करता है या सुधारात्मक कार्रवाई भी करता है। मुंबई मंडल ने यात्रियों की यात्रा और संवाद के अनुभव को बेहतर बनाने के लिए लाइसेंसधारी सहायकों के लिए कई स्वैच्छिक प्रशिक्षण कार्यक्रम और परामर्श सत्र आयोजित करने की योजना बनाई है।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार