Thursday, July 25, 2024
spot_img
Homeजियो तो ऐसे जियोश्रीमती चारु हर्षद शेठ – महिला सशक्तिकरण का उदाहरण

श्रीमती चारु हर्षद शेठ – महिला सशक्तिकरण का उदाहरण

बी ए तक शिक्षा प्राप्त श्रीमती चारु हर्षद शेठ का विवाह 4 मई 1974 को श्री हर्षद शेठ के साथ हुआ था । उनके शादी के बाद की जिंदगी 8’x 8’ के रूम से शुरू हुई । शादी के बाद स्कूल में नौकरी और ट्यूशन , दोनों पति पत्नी ने  कड़ी मेहनत से बच्चो को  इंग्लिश स्कूल में पढ़ाया । दो लड़की और एक लड़का,  खुशी हर हाल में ढूंढ लेते थे , न कोई शिकवा न शिकायते । मेहनत और नसीब से एक –एक बच्चे के जन्म के बाद भाग्य का एक –एक दरवाजा खुलता चला गया । पाँच लोगों का खुशहाल परिवार देख के शायद सबको खुशी मिलती थी ,ऐसा परिवार में खुशहाली  थी ।  

मगर किस्मत को खुशी मंजूर न थी । मुँह में निवाला आते – आते कुदरत ने निवाला छीन लिया। लड़का अतुल शायद उसकी तुलना किसी से नहीं हो सकती थी , 19 साल की भरी जवानी में भगवान को प्यारा हो गया , वो सदमा बर्दाश्त करना परिवार के बस के बाहर था । वसई में बहुत ही फैला हुआ कारोबार था और चारुबेन अपने पति का कारोबार में पहले से ही हाथ बटाती थी । दो लड़की थी , जिनकी समय से शादी हो गई । दोनों लड़कियों कभी लड़के की कमी महसूस नहीं होने दी । हमेशा परिवार की ताकत बन कर खड़ी रही । बाप के कंधे पर बेटे का जनाजा ,यह सदमा श्री हर्षत शेठ  से बर्दाश्त नहीं हो रहा था , ये गम उन्हे अंदर ही अंदर खाये जा रहा था और अगले पाँच साल में तो अचानक हार्ट अटेक आने से 2005 में इस संसार से अलविदा करके चले गए । 

यह दु:ख मानो  श्रीमती चारुबेन पर पहाड़ बन कर टूट पड़ा । उनकी दो बेटियों ने बाप की अर्थी को कंधा दिया और अग्नि संस्कार भी बेटियों ने करके बेटा होने का फर्ज़ अदा किया । हरेक पुरुष की सफलता के पीछे एक स्त्री का हाथ होता है मगर श्रीमती चारुबेन की सफलता के पीछे उनके पति का हाथ है जिन्होने उन्हे पहले से ही अपने कारोबार में शामिल कर रखा था । पति के जाने के बाद श्रीमती चारुबेन की दोनों बेटियों प्रीति और बेला  उनकी ताकत बनी , जिन्होने हमेशा माँ का हौसला बढ़ाया । आज भी पति के जाने के 9 साल बाद भी वह अपना कारोबार अच्छी तरह संभाल रही है और हर हाल में खुश रहती है तथा दूसरों को खुशी बांटती है । वह कभी अपने को अकेला महसूस नहीं करती है । उनका मानना है कि वसई उनकी कर्मभूमि है और वो जो कुछ भी है वो वसई की ही देन है ।मैं  वसई ईस्ट सीनियर सिटिज़न असोशिएशन की सदस्य हूँ और आज मेरा  परिवार वसई ईस्ट सीनियर सिटिज़न असोशिएशन के सदस्य गण भी है । मैं असोशिएशन की आभारी हूँ जो उन्होने मुझे इस महिला दिवस पर मुख्य अतिथि बनाया है ।  

 

संपर्क
अशोक भाटिया
HON.SECRETARY 
VASAI EAST SENIOR CITIZEN'S ASSOCIATION(Regd)
A / 001 , VENTURE APARTMENT ,NEAR REGAL, SEC 6, LINK ROAD , VASANT NAGARI ,
VASAI EAST -401208
DIST – ( PALGHAR  MAHARASHTRA )
 MOB. 09221232130-07757073896

.

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार