Thursday, February 22, 2024
spot_img
Homeमनोरंजन जगतओटीटी प्लेटफॉर्म्स को स्वतंत्र और रचनात्मक सिनेमा का मार्गदर्शन करना चाहिए: मनोज...

ओटीटी प्लेटफॉर्म्स को स्वतंत्र और रचनात्मक सिनेमा का मार्गदर्शन करना चाहिए: मनोज बाजपेयी

गोआ। गोवा में 54वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई) में आज ओवर द टॉप (ओटीटी) के लिए दर्शकों को आकर्षित करने वाली वेब सीरीज तैयार करने पर एक मास्टर क्लास सत्र आयोजित किया गया, जिसमें सिल्वर स्क्रीन के दिग्गज – मनोज बाजपेयी, राज निदिमोरु, कृष्णा डी.के., अपूर्व बख्शी और श्रीकृष्ण दयाल शामिल हुए।

बाएँ से दाएँ तक: नमन रामचन्द्रन, अपूर्व बख्शी, राज निदिमोरु, कृष्णा डी.के., मनोज बाजपेयी, श्रीकृष्ण दयाल

नमन रामचंद्रन द्वारा संचालित सत्र में ओवर-द-टॉप (ओटीटी) प्लेटफार्म्स पर डिजिटल दर्शकों के लिए प्रभावशाली कथाएँ बनाने की जटिलताओं और बारीकियों पर चर्चा की गई।

सिनेमाई क्षेत्र में उत्कृष्टता के प्रतीक, मनोज बाजपेयी ने एक अभिनेता की रहस्यमय यात्रा के बारे में जानकारी प्रदान की। अपने शब्दों में एक चरित्र में जान फूंकने की अभिनेता की आकांक्षा और समर्पण के पटल को चित्रित करते हुए, उन्होंने तैयारी, निरंतरता, चरित्र ग्राफ और उस प्रवाह को अपनाने के सर्वोपरि महत्व पर बल दिया जो प्रत्येक अभिनेता के सार को चुनौती देता है और ऊपर उठाता है। उन्होंने बल देकर कहा, “आपको भूमिका के लिए अच्छी तरह से तैयारी करनी होगी और फिर आने वाले नए विचारों के प्रति ग्रहणशील होने के लिए अपने दिमाग को खाली रखना होगा।”

ओटीटी की सफलता, विफलताओं और भविष्य पर बोलते हुए, द फैमिली मैन के अभिनेता ने कहा कि ओटीटी प्लेटफार्म्स को स्वतंत्र रचनात्मक सिनेमा का मार्गदर्शन करना चाहिए।

अपनी प्रशंसित ओटीटी कृति ‘द फैमिली मैन’ की गाथा साझा करते हुए, मनोज वाजपेयी ने तैयारी में ताकत के सार और चरित्र की यात्रा को स्क्रीन पर जीने की कला के बारे में जानकारी प्रदान की। उन्होंने कहा, “तैयारी ही कुंजी है।” उन्होंने साझा करते हुए कहा, “भुला देना और नए विचारों के लिए खुला रहना भी उतना ही महत्वपूर्ण है ताकि आपके प्रदर्शन में कठोरता न आए।” उनके शब्दों में संघर्ष के सार गूंजते हैं, इसे उस कड़ी परीक्षा के रूप में चित्रित करते हैं जो एक अभिनेता की क्षमता को मजबूत करता है।

थिएटर उस्ताद और द फैमिली मैन सीरीज़ के एक अन्य प्रमुख अभिनेता श्रीकृष्ण दयाल ने मंच और ओटीटी के डिजिटल पटल के बीच आपसी संबंध की बात की और टिप्पणी की कि लगातार दर्शकों की बढ़ती संख्या ओटीटी प्लेटफार्म्स का सबसे बड़ा लाभ है। उन्होंने उल्लेख किया कि थिएटर से प्राप्त अनुशासन, अभिनय के विभिन्न रूपों में अभिनेताओं की अनुकूलन क्षमता को विकसित करने में सक्षम बनाता है।

ओटीटी शृंखला द फैमिली मैन के सह-निर्देशक राज निदिमोरू ने बदलते प्रतिमान की भावनाओं को प्रतिध्वनित करते हुए ओटीटी के लगातार विकसित हो रहे परिदृश्य पर वृत्तचित्रों के गहरे प्रभाव पर प्रकाश डाला। उन्होंने ओटीटी मंच पर इन कथाओं के महत्वपूर्ण प्रभाव पर प्रकाश डाला।

ओटीटी शृंखला द फैमिली मैन के सह-निर्देशक कृष्णा डी.के. ने लगातार सीखने, भुला देने और पुनः सीखने का एक कैनवास चित्रित किया, जिसने ओटीटी प्लेटफॉर्म के लिए स्वतंत्र फिल्म-निर्माण, शो और श्रृंखला के स्पेक्ट्रम को पार करने में सहायता की है।

राज और डी.के. की ऊर्जावान निर्देशक जोड़ी ने स्वतंत्र फिल्म-निर्माण के अपने अनुभव को ओटीटी मंच पर अपने काम के लिए स्प्रिंगबोर्ड के रूप में बढ़ाया और यह ओटीटी पर उनके काम को विशिष्ट रूप से आकार देता है। उन्होंने कहानी में आत्मविश्वास के महत्व पर बल दिया जो बजट की सीमाओं के भीतर काम करते हुए भी प्रभावशाली कहानी कहने पर बल देता है।

अपूर्वा बख्शी ने बैंकिंग जगत से जुड़ी अपनी जड़ों से लेकर प्रसिद्ध ‘डेल्ही क्राइम’ श्रृंखला के निर्माण तक फिक्शन और नॉन-फिक्शन दोनों शैलियों में कहानी तैयार करने के लिए आवश्यक चीजों को रेखांकित करते हुए, स्क्रिप्ट में विश्वास के सार पर बल दिया। एक नई श्रृंखला के लिए माहौल की तैयारी पर विस्तार से, जिसे ओटीटी इकोसिस्टम में बाइबिल कहा जाता है, कथा साहित्य में एक अच्छी तरह से तैयार किए गए प्रयोग के साथ एक स्पष्ट अवधारणा नोट की महत्वपूर्ण भूमिका और गैर-काल्पनिक शैलियों में गहन शोध की आवश्यकता को दर्शाया गया है।

सत्र के अंत में, मनोज बाजपेयी की आगामी कृति जोराम का ट्रेलर भी चलाया गया, जिसमें एक और सिनेमाई चमत्कार के वादे के साथ दर्शकों को आकर्षित किया गया।

विशेष रूप से, भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई) ने डिजिटल क्षेत्र में समृद्ध सामग्री के पीछे की सरलता और प्रतिभा को सम्मानित करने के लिए इस वर्ष सर्वश्रेष्ठ वेब शृंखला (ओटीटी) पुरस्कार की शुरुआत की है। इस वर्ष 15 ओटीटी प्लेटफॉर्म से 10 भाषाओं में कुल 32 प्रविष्टियां प्राप्त हुई हैं। विजेता शृंखला को पुरस्कार राशि के रूप में 10 लाख रुपये का नकद पुरस्कार और प्रमाणपत्र प्रदान किया जाएगा, जिसकी घोषणा समापन समारोह में की जाएगी।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार