Wednesday, May 22, 2024
spot_img
Homeदुनिया भर कीकुछ हटकर सोचते हैं श्री सुरेश प्रभु

कुछ हटकर सोचते हैं श्री सुरेश प्रभु

जीवाश्म ईंधन से इस्तेमाल से निकलने वाली ग्रीनहाउस गैसों के हानिकारक प्रभावों पर सचेत करते हुए रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने सौर और पवन उर्जा जैसी वैकल्पिक उर्जा के उपयोग के माध्यम से उर्जा परिदृश्य में बड़े बदलाव की वकालत की है।

पिछले दिनों दिल्ली में  एक स्मारक व्याख्यान में श्री प्रभु ने  कहा, ‘दुनिया भर में बड़े पैमाने पर जीवाश्म ईंधन के इस्तेमाल से ग्रीन हाउस गैस का उत्सर्जन हो रहा है जिसका जलवायु पर बहुत बुरा असर पड़ रहा है। सभी लोग सहमत हैं कि जीवाश्म ईंधन के इस्तेमाल से निकलने वाली ग्रीन हाउस गैस वायुमंडलीय तापमान बढ़ा रही है और जलवायु में परिवर्तन ला रही है।’ ग्रीन हाउस गैस के उत्सर्जन के परिणामों की व्याख्या करते हुए उन्होंने कहा, ‘हाल की बेमौसम वर्षा और मौसम में इतने बड़े बदलाव की कल्पना नहीं की जा सकती। अतिवादी मौसम से कृषि पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है मसलन फसलें नष्ट हो रही हैं।’ प्रभु ने कहा कि वर्तमान उर्जा परिदृश्य पर्यावरण की दृष्टि से टिकाउ नहीं है।

उन्होंने कहा, ‘हमें अवश्य ही उर्जा के नए स्रोत को ढूंढना चाहिए जो टिकाउ हो और आज यह एक बड़ी चुनौती है।’ सौर और पवन उर्जा की वकालत करते हुए उन्होंने कहा कि ये उर्जा परिदृश्य में एक बड़ा बदलाव ला सकती हैं। उन्होंने कहा, ‘भारत में 300 दिनों तक अच्छी धूप होती है। हमें सौर उर्जा का आयात नहीं करना होगा। हमें सौर उर्जा पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए।’

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार