Monday, May 27, 2024
spot_img
Homeउपभोक्ता मंचरेल्वे को नव जीवन देने के लिए सुरेश प्रभु की जोरदार पहल

रेल्वे को नव जीवन देने के लिए सुरेश प्रभु की जोरदार पहल

  रेल मंत्री सुरेश प्रभु रेलवे के लिए संसाधन जुटाने के तरीके ढूंढ रहे हैं। पांच साल में रेलवे में 8.5 लाख करोड़ रुपये के निवेश का लक्ष्य रखा गया है। रेल मंत्री ने आज देश के प्रमुख बैंकरों के साथ रेल ढांचा विकास के लिए संसाधन जुटाने के तरीकों पर विचार किया।   नवगठित वित्तीय मामलों पर सलाहकार बोर्ड की पहली बैठक की अध्यक्षता करते हुए प्रभु ने कहा कि रेलवे में भारी निवेश की जरूरत है। उन्होंने कहा कि संसाधन जुटाने के लिए विभिन्न स्रोतों व ढांचों पर विचार किया जा रहा है। 
 

इस बैठक में आईसीआईसीआई बैंक के चेयरमैन के वी कामत, एसबीआई की चेयरपर्सन अरुंधति भट्टाचार्य, आईडीएफसी के कार्यकारी चेयरमैन राजीव लाल व क्विंटिलन मीडिया के संस्थापक राघव बहल तथा रेलवे के वरिष्ठ अधिकारी शामिल हुए।  सलाहकार बोर्ड के सदस्यों ने घरेलू व अंतरराष्ट्रीय कोष को आकर्षित करने के कई उपाय दिए। रेलवे ने पांच साल में 8.5 लाख करोड़ रुपये के निवेश का लक्ष्य रखा है। सालाना योजना का आकार भी 2015-16 में दोगुना होकर एक लाख करोड़ रुपये पर पहुंचने की उम्मीद है। रेल बजट पर चर्चा का जवाब देते हुए प्रभु ने सलाहकार बोर्ड के गठन की घोषणा की थी।  रेल मंत्रालय में वित्तीय सेवा प्रकोष्ठ बनाया गया है। यह प्रकोष्ठ संसाधन जुटाने के पहलुओं पर ध्यान केंद्रित करेगा। रेलवे ने पहले ही एलआईसी के साथ 1,50,000 करोड़ रुपये के वित्तपोषण के लिए सहमति ज्ञापन (एमओयू) किया है। यह राशि पांच साल में निवेश की जाएगी।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार