Friday, April 19, 2024
spot_img
Homeप्रेस विज्ञप्तिस्वदेशी जागरण मंच द्वारा विकसित देशों को गहरे समुद्र में मछली पकड़ने...

स्वदेशी जागरण मंच द्वारा विकसित देशों को गहरे समुद्र में मछली पकड़ने की गतिविधियों के लिए सब्सिडी वापस लेने की मांग

डब्ल्यूटीओ के 13वें मंत्रिस्तरीय सम्मेलन (एमसी13) का उद्घाटन 26 फरवरी 2024 को अबू धाबी, संयुक्त अरब अमीरात में किया गया। सदस्यों के समक्ष एक प्रमुख मुद्दा मत्स्य पालन सब्सिडी समझौता है। हालाँकि, वास्तविक मुद्दा मत्स्य पालन और अन्य समुद्री संसाधनों की कमी और स्थायी आधार पर मानव जाति के लिए मछली की भविष्य की उपलब्धता को खतरे में होना है; लेकिन अब इस मुद्दे को डब्ल्यूटीओ की दो-तिहाई सदस्यता द्वारा समझौते के अनुसमर्थन पर स्थानांतरित कर दिया गया है, जिससे घटते समुद्री संसाधनों के वास्तविक दोषियों, यानी विकसित देशों पर अनुशासन को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया है। कहा जा रहा है कि पहले समझौते को लागू होने दीजिए और मत्स्य संसाधनों की कमी के लिए जिम्मेदार लोगों पर अनुशासन लगाने का मुद्दा बाद में उठाया जाएगा।

यह कोई रहस्य नहीं है कि समुद्री संसाधनों के ख़त्म होने के लिए विकसित देश ही ज़िम्मेदार हैं क्योंकि उनके बड़े-बड़े जहाज़ अपना जल ख़त्म करने के बाद अपनी-अपनी सरकारों द्वारा दी जाने वाली सब्सिडी के सहारे सुदूर जल में गहरे समुद्री संसाधनों का दोहन कर रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि ओईसीडी मत्स्य पालन सब्सिडी अनुमान (2014-16) और एफएओ वार्षिक पुस्तक, मत्स्य पालन और जलीय कृषि सांख्यिकी, 2016 के आंकड़ों के अनुसार, डेनमार्क प्रति मछुआरे को $75,578, स्वीडन $65,979, न्यूजीलैंड $36,512, यूके $2,146, और भारत प्रति मछुआरे को बमुश्किल 15 डॉलर की सब्सिडी प्रदान करता है।इसलिए, विकसित देशों को गहरे समुद्र में मछली पकड़ने की गतिविधियों के लिए सब्सिडी वापस लेने की आवश्यकता है।

1974 में केवल 10 प्रतिशत अति-मछली पकड़ने का काम हो रहा था, आज अति-मछली पकड़ने का प्रतिशत बढ़कर 34 प्रतिशत हो गया है। समुद्री संसाधनों के विलुप्त होने के बारे में संयुक्त राष्ट्र की चिंता जायज है, लेकिन विश्व व्यापार संगठन द्वारा इस उद्देश्य के लिए अपनाए जा रहे उपायों से समस्या का समाधान नहीं होने वाला है, बल्कि इससे दुनिया के छोटे मछुआरों की आजीविका को ही नुकसान होगा। मछली की उपलब्धता में लगातार कमी के कारण तटीय क्षेत्रों में रहने वाले लोगों की आजीविका पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है और उनकी गरीबी बढ़ती जा रही है।

आज दुनिया में लगभग 50 करोड़ लोग अपने जीवन यापन के लिए मछली पकड़ने पर निर्भर हैं और कुल मछली पकड़ने में उनकी हिस्सेदारी बमुश्किल 40 प्रतिशत है। बड़ी-बड़ी कंपनियाँ गहरे समुद्र में मछली पकड़ने का काम करती हैं, जिसके कारण महासागरों में मत्स्य संसाधन धीरे-धीरे लुप्त हो रहे हैं। विकसित देशों द्वारा इन बेड़े की मालिक कंपनियों को अत्यधिक मछली पकड़ने के लिए दी जाने वाली सब्सिडी पर कोई स्पष्ट प्रतिबंध नहीं है।

हालाँकि, इसमें कोई संदेह नहीं है कि चीन जैसे देशों द्वारा अवैध, अनियमित और असूचित (आईयूयू) मछली पकड़ने पर पूर्ण रोक लगाने की आवश्यकता है, हमारे छोटे मछुआरे किसी भी तरह से किसी भी कथित आईयूयू मछली पकड़ने के लिए जिम्मेदार नहीं हैं। इसलिए उन पर कोई अनुशासन लागू करने का सवाल ही नहीं उठता।

स्वदेशी जागरण मंच हमारे आधिकारिक प्रतिनिधिमंडल से आग्रह करता है कि वे विकसित देशों द्वारा प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से ऐसे किसी भी कदम को रोकें, ताकि भावी पीढ़ियों की खातिर उन लोगों को अनुशासित करने पर आम सहमति बनाई जा सके जो समुद्री संसाधनों को कम करने के वास्तविक खलनायक हैं।

एक ओर हमें उन लोगों पर कड़े अनुशासन की आवश्यकता है जो अत्यधिक मछली पकड़ने और अत्यधिक क्षमता के लिए जिम्मेदार हैं, जो कि अब जिस दस्तावेज पर बातचीत की जा रही है वह कोई समाधान प्रदान नहीं करता है। दूसरी ओर हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि यूएनसीएलओएस (यूनाइटेड नेशन कन्वेंशन ऑन लॉ ऑफ़ दी सी) के तहत हमारे अधिकारों को ध्यान में रखते हुए, मछली पकड़ने का समर्थन करने के लिए हमारे पास ईईजेड तक पूर्ण लचीलापन है। विशेष रूप से, हमें छोटे मछुआरों के लिए सब्सिडी में पूर्ण और स्थायी छूट मिलनी चाहिए। इस प्रावधान को किसी भी तरह से कमजोर नहीं किया जा सकता।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार