Tuesday, June 25, 2024
spot_img
Homeखबरें - दुनिया भर की15 से भीलवाड़ा में तीन दिवसीय इंडस्ट्रियल फेयर , भूमि पूजन के...

15 से भीलवाड़ा में तीन दिवसीय इंडस्ट्रियल फेयर , भूमि पूजन के साथ तैयारियां तेजी पर

लघु उद्योग भारती भीलवाड़ा इकाई के तत्वावधान में आगामी 15 सितंबर से तीन दिवसीय इंडिया इंडस्ट्रियल फेयर का आयोजन किया जा रहा है। आयोजन को सफल बनाने के लिए विभिन्न समितियों का गठन किया जा कर तैयारियां तेजी पर शुरू करदी गई हैं। फेयर आयोजन मुख्य समिति में अध्यक्ष महेश जी हुरकट, कोर्डिनेटर गिरीश अग्रवाल सहित प्रमुख रूप से संजीव की चिरानिया,राजकुमार मेलाना,सुरेश कोगटा,
शंभू काबरा, अजय जी मूंदड़ा एवं राजीव शर्मा को शामिल किया गया है।

उद्योग मेला संयोजक गिरीश अग्रवाल ने बताया की उद्योग मेले में कई केंद्रीय मंत्रियों के आने की संभावना है। लघु उद्योग भारती के राष्ट्रीय संगठन मंत्री प्रकाश जी भाई साहब लघु उद्योग भारती के राष्ट्रीय सचिव नरेश जी पारीक भीलवाड़ा इकाई के अध्यक्ष व मेला चेयरमैन श्री महेश हुरकट प्रदेश संयुक्त सचिव श्री राजकुमार मेलाना ने केंद्रीय मंत्रियों से मुलाकात कर आने का निमंत्रण दिया था।

इस मेले में लगभग डेढ़ सौ से अधिक स्टाल लगाई जा रही है जिसमें पूरे देश के टेक्सटाइल उद्योगों की मशीनरी, स्पेयर पार्ट्स, विभिन्न प्रकार के धागे, कपड़े, रेडिमेड गारमेंट माइनिंग से संबंधित उत्पादों का प्रदर्शन किया जाएगा।

संयोजक श्री अग्रवाल ने बताया कि व्यापक रूप से आयोजन हेतु लगभग 50000 स्क्वायर फिट का वातानुकूलित डोम तैयार किया गया है। साथ ही उत्पाद प्रदर्शनी एवं क्रेता- विक्रेता सम्मेलन के लिए एक मंच भी बनाया जा रहा है। लघु उद्योग भारती द्वारा हर वर्ष राष्ट्रीय स्तर पर एक मेला सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्योगों को बढ़ावा देने हेतु आयोजित किया जाता है इस बार यह आठवां मेला भीलवाड़ा में आयोजित किया जा रहा है। इस मेले में दो भागों में स्टाल को लगाया जा रहा है, एक भाग में विभिन्न प्रकार के धागे कपड़ा रेडीमेड गारमेंट व माइनिंग संबंधित स्टॉल होंगे तथा दूसरी ओर विभिन्न प्रकार के टेक्सटाइल स्पिनिंग वीविंग एंड प्रोसेसिंग मशीनरी व स्टोर स्पेयर आदि प्रदर्शित किए जाएंगे।

मेला समिति के अजय मूंदड़ा ने बताया की इस मेले की लगभग 70 प्रतिशत स्टॉल्स की बुकिंग हो चुकी है। कुछ ही स्टॉल बुक होना बाकी है। मेला संयोजक ने बताया कि इस राष्ट्रीय इंडस्ट्रियल फेयर के आयोजन से भीलवाड़ा के राजस्थान के एमएसएमई उद्योगों को आगे बढ़ने का मौका मिलेगा तथा केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार द्वारा उद्योगों के लिए दी जा रही विभिन्न योजनाओं की जानकारी एक ही छत के नीचे मिल सकेगी। भारत सरकार एवं राजस्थान सरकार के विभिन्न मंत्रालय इस इंडस्ट्रियल फेयर में अपने महत्वपूर्ण योजनाओं के बारे में जानकारी देंगे। इस मेले के कारण नवीन तकनीकों एवं नए बाजार भी विकसित होंगे। यह मेला निश्चित रूप से भीलवाड़ा के उद्योगों को नई ऊंचाइयां देगा। लघु उद्योग भारती भीलवाड़ा इकाई द्वारा एक पत्रक जारी कर भूमि पूजन कर तैयारियां तेजी से की जा रही हैं। राष्ट्रीय स्तर के उद्योग मेले के आयोजन के प्रति न केवल उद्यमियों वरन आम जन में भी अपार उत्साह देखा जा रहा है।

भीलवाड़ा टेक्सटाइल्स उद्योग की दशा और दिशा पर नजर डालें तो यहाँ का वस्त्र उद्योग भीलवाड़ा का ही नहीं वरन् भारत का सबसे प्राचीन उद्योग है। राजस्थान राज्य की आर्थिक प्रगति में रीढ़ की हड्डी की तरह योगदान कर रहा है । इस उद्योग का वार्षिक टर्न ओवर एक वर्ष पूर्व के आंकड़ों के मुताबिक करीब 40 हजार करोड़ रुपये है। यह कृषि के बाद संगठित एवं असंगठित क्षैत्रों में सर्वाधिक रोजगार देने वाला उद्यम है। स्वतन्त्रता से पूर्व राजस्थान में दस टैक्सटाइल मिल कार्यरत् थी। उस समय के मेवाड़ राज्य में प्रथम टैक्सटाइल मिल मेवाड़ टैक्सटाइल मिल के नाम से भीलवाड़ा में 1935 में स्थपित की गई। भीलवाड़ा में गिनींग मिल की भी स्थापना की गई। वर्ष 1961 में भीलवाड़ा समूह के संस्थापक श्री लक्ष्मी निवास झूनझून वाला द्वारा एक स्पीनिंग मिल की स्थापना की गई। इस समूह द्वारा जिसका अब 4500 करोड़ का साम्राज्य है 2011 में अपनी स्थापना की स्वर्ण जंयती मनायी गई।

भीलवाड़ा जिले में इससे उद्योगों के विकास एवं उद्यमियों को प्रोत्साहन की भावना को बल मिला, जिससे भीलवाड़ा संसार के नक्शे पर उद्योंग के प्रकाश पुॅज की तरह उभर कर आया। वर्तमान में यह देश का एक प्रमुख औद्योगिक शहर है जिसका पी.वी सूटिंग्स के क्षेत्र में देश में अग्रणीय स्थान है।

भीलवाड़ा का पोलिस्टर विस्कोस मिश्रित यार्न के उत्पादन में भी अहम् योगदान है। यहां पुराने क्षेत्रों में 18 स्पिनिंग मिलों एवं 5 स्वतन्त्र स्पीनिंग मिलों से अनुमानित 2. 80 लाख टन पीवी एवं कॉटन यार्न का उत्पादन होता है। राज्य के कुल यार्न उत्पादन में अकेले भीलवाड़ा का सर्वाधिक योगदान है। वर्ष 2005 में मल्टी फाइबर एग्रीमेंट समाप्त होने के बाद स्पीनिंग इकाईयों का तीव्र गति से विस्तार हुआ। उस समय की 2.68 लाख इकाइयां थी जो दो वर्ष में बढ़कर 9.65 लाख तक पहुंच गई। स्पीनिंग सेक्टर के पास लगभग 21172 रोटर्स भी हैं । मिलों में लगभग 1552 लूमस एवं 58 बुनाई मशीनें हैं। इन मिलों का सालाना निर्यात् 2500 करोड़ रुपये के लगभग है।

विकेद्रित क्षेत्रों में 60वीं सदी में कुछ पावर लूम इकाईयां स्थापित की गई एवं करीब 200 सैंकड हैंड वीविंग लूम्स यहाँ कार्य कर रही थी। एक सीडिंग प्लान्ट इनकी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिये भी स्थापित किया गया। उस समय 3 वेस्ट कॉटन यार्न के उद्योग भी कार्यरत् थे। उस दौर में काटन निवार बनाने की मैन्यूफैक्चरिंग इकाईयां भी बड़ी संस्था में स्थापित की गई, जिन्होंने अन्य महतवपूर्ण नीवर बनाने वाली इकाईयों जो हाथरस, पानीपत एवं मथुरा में स्थापित थी के अधिपत्य को समाप्त कर दिया।

सन् 70 में भीलवाड़ा ग्रुप ने दुबारा पीवी शूटिंग्स में बढ़त हासिल की एवं 24 सिमको लूम्स की इकाईयां स्थापित की गई। वर्ष 1978 में रीको क्षेत्र में तीन इकाइयॉ और स्थापित की गई। सन् 80 में लूम्स इकाइयों को लगाने के लिये भारत सरकार से औद्योगिक लाइसेंस प्राप्त करना अनिवार्य हो गया। इस दौरान व्यवसायिक क्षेत्रों में 5-6 इकाइयां एवं अन्य क्षेत्रों में 7-8 इकाइयों की स्थापना ही की जा सकी। आगे चल कर वर्ष 1988 में जब लाइसेंस की अनिवार्यता हटा दी गई तो औद्योगिक विकास में तेजी आई एवं 1988 से 1991 के मध्य 70-80 वीविंग इकाईयों की स्थापना की गई । सितंबर2020 में 460 वीविंग इकाईयां हैं, जिनमें लगभग 17,000 आधुनिक तकनीकी युक्त लूम्स लगी हैं। इन इकाईयों से सालाना 75-80 करोड़ मीटर पीवी सूटिंग्स का उत्पादन हो रहा हैं।

प्रोसेसिंग सेक्टर में भी भीलवाड़ा समूह द्वारा 1973 -74 में प्रथम् प्रोसेस हाउस भीलवाड़ा प्रोसेसर्स लिमिटेड़ की स्थापना कर नई पहल की गई। वर्तमान में भीलवाड़ा में आधुनिक तकनीकी युक्त 19 प्रोसेस हाउस स्थपित हैं, जिनकी क्षमता 90 करोड़ मीटर पीवी सूटिंग्स प्रोसेस करने की है। स्पीनिंग में राज्य की कुल 42 मिलों में से 18 मिलें भीलवाड़ा में स्थापित हैं। यहाँ 3.20 लाख टन यार्न का उत्पादन होता है जो राज्य के कुल यार्न उत्पादन का 45 फीसदी है। कुल स्पीनडलेज 11.00 लाख है। राज्य के कुल यार्न के निर्यात में भीलवाड़ा का 75 फीसदी योगदान है। भीलवाड़ा में कार्यरत 17,000 लूम्स में से आधुनिक टैक्नोलाजी से लैस 15,000 लूम्स हैं । लूम्स के आधुनिकीकरण में भीलवाड़ा की विकास दर 9.57 फीसदी है जबकि देश में यह 8 फीसदी है। टैक्सटाइल समूह से मिलते वाला कुल टर्नओवर 25000 करोड़ रुपये है। यार्न एवं फेब्रिक का कुल निर्यात् 3800 करोड़ है। टैक्सटइल उद्योग प्रत्यक्ष रूप से 85,000 व्यक्तियों एवं अप्रत्यक्ष तौर से 60, 000 व्यक्तियों को रोजगार उपलब्ध है।

वर्ष 2005 में मल्टी फाइबर एग्रीमेन्ट समाप्त होने पर स्पीनिंग सैक्टर में भीलवाड़ा का तीव्र विकास हुआ तथा वर्ष 2018 तक 83,896 नई स्पीन्डलस स्थापित की गई , जिनकी कार्यक्षमता तुलनात्मक रूप से 75 प्रतिशत थी। वर्ष 2005 में राजस्थान में स्पीन्डल्स की संख्या 9,79,197 थी जबकि भीलवाड़ा में यह 2,68,56 थी। वर्ष 2018 में राजस्थान में स्पीन्डल्स की संख्या 22,31,408 थी जबकि अकेले भीलवाड़ा में 11,00,352 थी। ( राजस्थान में स्पींनिग इकाइयों में लगभग 37,648 रोटर्स लगे हुए हैं जिनमें से 31,352 भीलवाड़ा – बाँसवाड में स्थापित हैं जिनकी कार्य क्षमता 83.27 प्रतिशत है) ।

स्पीनिंग उद्योग में आधुनिक मशीनों का उपयोग भी किया जा रहा है, जिनमें मुख्य इकाई लक्ष्मी मशीन वर्क्स है। आयातित मशीनों में स्वीटजरलैण्ड से रिएक्टर एवं लूवा ,जर्मनी से त्रुजस्चले एवं सेवीयो, ईटली से लोपटेक्स एवं सवियो मशीनें लाई गई हैं। राजस्थान में भीलवाड़ा पहला केंद्र है जहाँ एयरजेट स्पिनिंग टेक्नोलॉजी का उपयोग किया जा रहा है और सिल्क यार्न का उत्पादन होता है।
वीविंग सैक्टर

राजस्थान राज्य की कुल 22,000 पावर लूम्स में से करीब 17,000 पावर लूम्स भीलवाड़ा में हैं। जिनकी कार्यक्षमता तुलनात्मक रूप से 77 प्रतिशत है। यहाँ 440 से ज्यादा विवींग ईकाईयाँ है। भीलवाड़ा से 85 से 90 करोड़ मीटर पोलिएस्टर, वूल , मोडल पोलीएस्टर, विस्कोस, लाइका पोलीएस्टर , लाइक सिल्क फेब्रिक का उत्पादन होता है जिसकी कीमत 9000 करोड़ प्रति वर्ष है। यह देश में पीवी सूटिंग्स के कुल उत्पादन का 45 फीसदी है। यहाँ अच्छी गुणवत्ता युक्त कई स्थापित ब्रान्डेड जैसे बीएसएल, मयूर,बीडी सूटिंग्स एवं संगम आदि का उत्पादन होता है। यहाँ की सूटिंग्स की निर्यात बाजारों में अच्छी खासी मांग हैं। यहाँ से सालाना 7 – 8 करोड़ मीटर फेब्रिक का निर्यात जाता है जिसकी कीमत 550 करोड़ रुपये है। भीलवाड़ा देश का प्रमुख वस्त्र उद्योग केन्द्र होने के कारण बड़ी संख्या में व्यापारियों ने यहाँ अपना व्यापार जमाया है। इनमें से अनेक व्यापारी कार्यादेश पर अपनी आवश्यकता पूरी करवाते हैं एवं कई व्यापारियों ने स्वंय की लूम स्थापित कर मैन्यूफैक्चरिंग कर रहे हैं। यहां सलजर इक्पोर्टेड शटललेस लूम्स, डोरनीयर एंड रेपीयर शटललेस लूम, पीकेनाल लूम, एयरजेट लूम, वाटरजेट लूम, एवं सीमकों लूम प्रमुख हैं।

कुछ इकाइयों ने डेनिम फैब्रिक्स का उत्पादन भी शुरू किया है। संगम इंडिया सालाना 6.50 करोड़ मीटर ,आर.एस. डब्लू एम.लिमिटिड 2.50 करोड़ मीटर, कंचन इंडिया लिमिटेड 12.00 करोड़ मीटर डेनिम का उत्पादन करती हैं। इनके अतिरिक्त मेनोमें टैक्स इंडिया, सुपर गोल्ड, बाँसवाड़ा सिंटेक्स लिमिटेड भी डेनिम उत्पादन में अगणी इकाइयाँ हैं। संगम इंडिया लिमिटेड की ओटून इकाई से फ्लोक थर्मल कर्टेन , वेलोर फैब्रिक्स एवं अपहोलसट्री फैब्रिक का सालाना 40 लाख मीटर का उत्पादन होता है। संगम इंडिया लिमिटेड से सालाना 36 लाख मीटर सीमलेस गारर्मन्ट का उत्पादन किया जाता है।
निर्यात में अग्रणीय

मेवाड़ वाणिज्य एवं उद्योग चौम्बर द्वारा 2006 से किये जा रहे अथक प्रयासों के परिणामस्वरूप वाणिज्य मंत्री श्री कमल नाथ द्वारा भीलवाड़ा को ष्टाउन ऑफ एक्सपोर्ट एक्सीलेंसीष् घोषित किया गया। इससे सम्बन्धित गजट नोटिफिकेशन 26 फरवरी 2009 को किया गया। इस घोषणा के साथ ही भीलवाड़ा में समान सेवारत् कर्मचारियों को इपीसीजी स्कीम का लाभ मिलने लगा। मार्केट ऐक्सेस इनिशिएटिव स्कीम के तहत केन्द्र सरकार द्वारा तकनीकि विकास के लिए आर्थिक सहायता प्रदान की गई। स्किम के तहत आधारभूत ढाँचे के निर्माण में होने वाली परेशानियों से निपटने के लिए सहायतार्थ हेतु उपलब्ध करवाये जाएंगे।
————
शिखा अग्रवाल
लेखिका, भीलवाड़ा

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार