आप यहाँ है :

आपकी बात
 

  • भीड़तंत्र की हिंसा से जख्मी होता समाज

    भीड़तंत्र की हिंसा से जख्मी होता समाज

    उत्तर प्रदेश के आगरा में भाजपा नेता की हत्या के बाद भीड़ ने ही दो हमलावरों में से एक को पीट-पीटकर मार डाला। दिल्ली में खुलेआम दो लड़कों को पेशाब करने से रोकने पर गतदिनों एक ई-रिक्शा चालक की पीट-पीट कर हत्या कर दी गई।

  • गंगोत्री के हरे पहरेदारों की पुकार सुनो

    गंगोत्री के हरे पहरेदारों की पुकार सुनो

    एक ओर 'नमामि गंगे' के तहत् 30 हजार हेक्टेयर भूमि पर वनों के रोपण का लक्ष्य है तो दूसरी ओर गंगोत्री से हर्षिल के बीच हजारों हरे देवदार के पेडों की हजामत किए जाने का प्रस्ताव है।

  • तीन साल, राजनीति के दल-दल में गंगा बदहाल

    तीन साल, राजनीति के दल-दल में गंगा बदहाल

    कहते हैं कि प्रधानमंत्री श्री मोदी जी जब बोलते हैं, तो उनकी बोली में संकल्प दिखाई देता है। गंगा को लेकर कहे उनके शब्दों को सामने रखें। स्वयं से सवाल पूछें कि गंगा को लेकर यह बात कितनी सत्य है ? गौर कीजिए कि मोदी जी ने इस संकल्प की पूर्ति के लिए जल मंत्रालय के साथ 'गंगा पुनर्जीवन' शब्द जोड़ा।

  • महिलाओं के हक़ में एक और बेहतरीन फ़ैसला

    महिलाओं के हक़ में एक और बेहतरीन फ़ैसला

    देश में हज़ारों-लाखों ऐसी महिलाएं होंगी, जो अकेले दम पर अपने बच्चों की परवरिश कर रही हैं. इनमें से बहुत सी ऐसी महिलाएं हैं, जिनके पति की मौत हो चुकी है. बहुत सी ऐसी महिलाएं हैं

  • ज़िन्दगी को यूं तंबाकू में न गंवाओं यारों

    ज़िन्दगी को यूं तंबाकू में न गंवाओं यारों

    तंबाकू नशा है और इसे इस्तेमाल करने वाले - नशेङी ! संभव है यह संबोधन तंबाकू खाने वालों को बुरा लगे, लेकिन समय का सच यही है और विश्व तंबाकू निषेध दिवस की चेतावनी भी। भारत में जितनी भी चीजें नशे के रूप में इस्तेमाल की जाती हैं, मात्रा के पैमाने पर इनमें तंबाकू का नंबर सबसे आगे है।

  • गाद को बहने दो

    गाद को बहने दो

    सैंड, सेडिमेन्ट और सिल्ट यानी रेत, गाद और तलछट। सबसे मोटा कण रेत, उससे बारीक गाद और उससे बारीक कण को तलछट कहते हैं। रेत, स्पंज की तरह होता है। इस नाते रेत का काम होता है, नदी के पानी को सोखकर उसे सुरक्षित रखना। नदी से जितना अधिक गहराई से रेत निकालते जायेंगे, नदी […]

  • पशुओं की खरीद-बिक्री के नए नियमों का विरोध क्यों?

    पशुओं की खरीद-बिक्री के नए नियमों का विरोध क्यों?

    पशुओं की खरीद-बिक्री के नए नियम तय करने के केंद्र सरकार के साहसिक एवं सूझबूझपूर्ण निर्णय का चहुंओर स्वागत हो रहा है तो अनावश्यक उग्रता भी देखने को मिल रही है। ये नए नियम उन्हें क्रूरता से बचाने के इरादे से बनाए गये हैं

  • इन भारत विरोधियों को इनके कारनामों की सजा अवश्य मिले

    इन भारत विरोधियों को इनके कारनामों की सजा अवश्य मिले

    अगर यह कहें कि अब बाया उंट पहाड़ के नीचे तो शायद कई लोग इसे समुचित तुलना नहीं मानेंगे। लेकिन अलगाववादी संगठन हुर्रियत कॉन्फ्रेंस द्वारा पाकिस्तान के आतंकवादी संगठन तश्कर ए तैयबा से धन लेने का खुलासा होेने के बाद हुर्रियत नेताओं के चेहरे से उड़ती हवाइयां यहीं बता रहीं हैं।

  • EVM मशीनों की विश्वसनीयता और सुदृढ़ हुई है

    EVM मशीनों की विश्वसनीयता और सुदृढ़ हुई है

    भारतीय मतदाताओं के साथ साथ चुनाव आयोग भी दिल्ली के मुख्यमंत्री व आआपा पार्टी के आभारी हो सकते है. उन्होंने एक काम अनायास ही ऐसा कर दिया जिससे वोटिंग मशीन की विश्वसनीयता स्थापित हुई है.

  • बैराज नहीं, बिहार जल प्रबंधन भी जांचे नीतीश

    बैराज नहीं, बिहार जल प्रबंधन भी जांचे नीतीश

    हमने कभी सिंचाई के नाम पर नदियों को बांधा और कभी बाढ मुक्ति़-बिजली उत्पादन के नाम पर। नदी के नफ़ा-नुकसान की समीक्षा किए बगैर यह क्रम आज भी जारी है। एक चित्र में नदियों को जहां चाहे तोड़ने-मोड़ने-जोड़ने की तैयारी है, तो दूसरे में भारत की हर प्रमुख नदी के बीच जलपरिवहन और नदी किनारे पर राजमार्ग के सपने को आकार देने की पुरजोर कोशिश आगे बढ़ती दिखाई दे रही है।

  • Page 3 of 26
    1 2 3 4 5 26

ईमेल सबस्क्रिप्शन

PHOTOS

VIDEOS

Back to Top

Page 3 of 26
1 2 3 4 5 26