आप यहाँ है :

पतंजलि ने फिर मात दी दिग्गज कंपनियों को

योग गुरु बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद कारोबार के मामले में दिग्गज एफएमसीजी कंपनियों के काफी नजदीक पहुंच गई है। दुनिया की नामी एफएमसीजी कंपनियों में शुमार डाबर, मॅरिको और गोदरेज के मुकाबले पतंजलि का कारोबार तेजी से बढ़ रहा है। बाबा रामदेव की कंपनी की बिक्री में पिछले 10 महीनों मे दोगुनी बढ़ोतरी हुई है। हरिद्वार स्थित कंपनी ने जनवरी 2016 तक 10 महीनों में 3,267 करोड़ रुपये की बिक्री की, जबकि बीते साल कंपनी की ने 1,587 करोड़ की सेल थी यानी कंपनी की सेल में 106 पर्सेंट का इजाफा हुआ।

रेटिंग एजेंसी ब्रिकवर्क ने पतंजलि आयुर्वेंद के डेटा के अध्ययन के आधार पर यह जानकारी दी है। ब्रिकवर्क की रिपोर्ट के अनुसार, ‘पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड ने पिछले एक साल में अपना प्रॉडक्ट्स का आधार पर बहुत तेजी से बढ़ाया है। इस ग्रोथ के बनाए रखने के लिए कंपनी को लगातार रिसर्च ऐंड डिवेलपमेंट की जरूरत होगी। इसके अलावा मैन्युफैक्चरिंग और क्वॉलिटी कंट्रोल पर भी पूरा ध्यान बनाए रखना होगा।’

इसकी साल जनवरी के आंकड़ों के मुताबिक पतंजलि आयुर्वेद तेजी से आगे बढ़ रही है और सेल के मामले में दिग्गज कंपनियों के खासी करीब आ पहुंची है। दिसंबर 2015 के डेटा के मुताबिक मॅरिको ने महीने में 3,903 करोड़ और गोदरेज कंज्यूमर ने 3,585 करोड़ रुपये की सेल की है। हालांकि 4 हजार करोड़ की सेल का आंकड़ा पार करने वाली डाबर इकलौती एफएमसीजी कंपनी है। दिसंबर 2015 के आंकड़े के मुताबिक कंपनी ने बीते 9 महीने में 4,233 करोड़ रुपये की सेल की।

8 पर्सेंट की ग्रोथ वाले एफएमसीजी के प्रतिस्पर्धी बाजार में यह कंपनियां अपनी सेल में 8 से 12 पर्सेंट का ही इजाफा कर सकी हैं। लेकिन पतंजलि आयुर्वेद ने हेल्थकेयर प्रॉडक्ट्स से लेकर खाद्य वस्तुओं तक कुल 500 प्रॉडक्ट्स की बिक्री कर बड़ा रेवेन्यू जुटाया है। पतंजलि आयुर्वेद के घी सबसे अधिक डिमांड है। कंपनी के रेवेन्यू में घी की हिस्सेदारी 30 से 35 पर्सेंट है। इसके अलावा हेल्थकेयर प्रॉडक्ट्स की हिस्सेदारी 20 पर्सेंट तक है।

1997 में शुरुआत करने वाली पतंजलि आयुर्वेद के 2014 में देशभर में कुल 200 आउटलेट्स थे, जिनकी तादाद अब बढ़कर 5,000 से अधिक हो गई है। कंपनी ने हाल ही में दो दर्जन से अधिक मेनस्ट्रीम एफएमसीजी प्रॉडक्ट्स की लॉन्चिंग की है। पतंजलि आयुर्वेद की खासियत यह है कि इसके उत्पाद प्रतिस्पर्धी कंपनियों के मुकाबले 15 से 20 पर्सेंट तक सस्ते हैं, जबकि दूसरी कंपनियां ऑफर्स और प्रमोशन्स के जरिए टक्कर लेने की कोशिश में जुटी हैं।

पतंजलि आयुर्वेद के प्रवक्ता एसके तिजारावाला ने ईटी से कहा, ‘हम लगातार क्वॉलिटी और कीमतों पर ध्यान दे रहे हैं। आप ग्राहकों से कंपनी के उत्पादों की गुणवत्ता के बारे में पूछिए, आखिर वह क्यों हमारे प्रॉडक्ट्स को बार-बार खरीद रहे हैं। इसकी वजह यह है कि हम ग्राहकों को जो प्रॉडक्ट्स बेच रहे हैं, उनकी गुणवत्ता बेहतर है। जहां तक कीमतों की बात है तो हम ग्राहकों को बेहतर दाम पर चीजें मुहैया कराने की कोशिश करते हैं। हमारी कीमतों में लगातार बढ़ोतरी नहीं होती है।’

साभार- इकॉनामिक टाईम्स से

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top