Wednesday, May 22, 2024
spot_img
Homeमीडिया की दुनिया सेआईएस से लड़कर कनाडा लौटी महिला के खौफ़नाक अनुभव

आईएस से लड़कर कनाडा लौटी महिला के खौफ़नाक अनुभव

ओटावा। इस्लामिक स्टेट के आतंकियों से लड़ने के लिए सीरिया गई कनाडा की पूर्व मॉडल टाइगर सन ने वापस कनाडा लौटकर वहां के अपेन खौफनाक अनुभव साझा किए। टाइगर एक बच्ची की मां हैं, लेकिन वह आईएस की करतूतों से इस कदर गुस्‍से में भर गईं थी कि अपनी बच्‍ची को कनाडा में छोड़कर एक मार्च को वह खुद सीरिया चली गईं।

आतंकियों के खिलाफ लड़ रहे कुर्द फाइटर्स की पीपुल्स प्रोटेक्शन यूनिट के लिए चार महीनों तक जंग लड़ चुकीं 46 वर्षीय टाइगर सन वैंकुवर (कनाडा) की रहने वाली हैं। एक अंग्रेजी वेबसाइट को दिए इंटरव्यू में टाइगर ने जंग के दौरान हुए खौफनाक अनुभव बांटे हैं। उन्होंने कहा है कि अगर उन्हें मौका मिला तो वह दोबारा से सीरिया लौटना चाहेंगी।

सीरिया जाने से पहले उन्होंने आईएस का एक वीडियो देखा था, जिसमें ओटावा के जिहादी मैकगुरे को दिखाया गया था। इस वीडियो ने सन को आईएस के खिलाफ लड़ने के लिए प्रेरित किया। हथियार चलाने की खास ट्रेनिंग न होने के बावजूद उसमें आतंकियों के खिलाफ लड़ने का जज्बा था।

 

सन ने बताया‍ कि आतंकियों के खिलाफ कुर्द सेना में महिलाएं और पुरुष साथ मिलकर लड़ते हैं। उनमें से कई के बीच शारीरिक संबंध भी हैं। मगर, ज्यादातर लोग ऐसे रिश्तों को गोपनीय रखते हैं। उन्‍होंने बताया कि मॉडल होने के बावजूद जंग के दौरान साथी फाइटर्स ने उनके साथ समानता का व्यवहार किया।

एक इंटरव्यू में सन ने बताया कि उन्होंने अपनी आंखों के सामने एक बच्ची को लैंडमाइन के धमाके में मरते हुए देखा। उस बच्‍ची को बचाने के लिए जरूरी मेडिकल ट्रेनिंग कुर्दों के नहीं मिली थीं। सन ने किसी आतंकी को खुद नहीं मारा। वह अपने साथ दूरबीन ले गई थी, जिसकी मदद से वह अपने ग्रुप को आतंकियों की लोकेशन बताती थीं।

 

युद्ध में सन एक महिला के साथ थीं, जिसने 28 जिहादियों को मारा। टाइगर ने बताया कि आतंकी हमेशा मेरे निशाने से दूर होते थे। उन्‍होंने बताया कि गश्‍त करते हुए एक बार उनका पैर कटी हुई उंगली पर पड़ गया था। काफी ढूंढने के बाद भी उन्हें मृतक के शरीर का बाकी हिस्सा नहीं मिला।

वह बताती हैं कि कुछ समय बाद उन्‍हें हिंसा देखने की आदत हो गई थी। लाशें विचलित नहीं करती थीं। एक बार मुझे ऐसी जगह बैठकर लंच करना पड़ा, जहां आसपास सड़ी हुई लाशें और खोपड़ियां पड़ी थीं। निजी जिंदगी के बारे में उन्‍होंने बताया कि उनका जन्म जाम्बिया में हुआ था। एक लेबनानी शख्स के साथ उनका संबंध था, जो अरेंज मैरिज करने के लिए उन्हें छोड़ गया था।

 

साभार- : http://naidunia.jagran.com/ से 

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार