Friday, April 19, 2024
spot_img
Homeमनोरंजन जगतआईएफएफआई 54 में भारतीय पैनोरमा फीचर फिल्म खंड की शुरुआत मलयालम फिल्म...

आईएफएफआई 54 में भारतीय पैनोरमा फीचर फिल्म खंड की शुरुआत मलयालम फिल्म अट्टम से हुई

आईएफएफआई में उद्घाटन फिल्म का निर्देशक होने पर मैं बेहद सम्मानित महसूस कर रहा हूं: निर्देशक आनंद एकार्शी

अट्टम बहुत निजी है, यह पारिवारिक फिल्म है जो मेरे दिल के करीब है: अभिनेता विनय फोर्ट

गोआ। आईएफएफआई 54 में फिल्म प्रेमियों के लिए उत्कृष्ट सिनेमाई अनुभव प्रदान करने वाले भारतीय पैनोरमा खंड की शुरूआत कल मलयालम फिल्म अट्टम के साथ हुई। आनंद एकार्शी के निर्देशन में बनी फिल्म अट्टम में कुछ असहज परिस्थितियों में फंसे व्यक्ति और एक समूह के बीच की कहानी को दिखाया गया है।

फिल्म अट्टम के निर्देशक आनंद एकार्शी ने गोवा में 54वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में मीडिया से बातचीत करते हुए बताया कि फिल्म का मुख्य विषय किसी भी लिंग या पितृसत्ता के लिए विशिष्ट नहीं है। फिल्म की कल्पना व्यक्ति और समूह के बीच गतिशीलता की परतों में की गई है, जहां समूह पुरुषों का है और व्यक्ति एक महिला है। उन्होंने आगे कहा कि कहानी में लिंग अध्ययन शामिल है लेकिन तस्वीर अपने आप में क्षेत्र या लिंग विशिष्ट नहीं है।

फिल्म निर्देशक एकार्शी ने 140 मिनट लंबी इस सिनेमाई उत्कृष्ट कृति का निर्देशन किया है, जिसमें ऊर्जस्वी जोड़ी, विनय फोर्ट और ज़रीन शिहाब के नेतृत्व में कलाकारों का मार्गदर्शन किया गया है। फिल्म के कथानक के बारे में बात करते हुए उन्होंने बताया कि फिल्म में एक व्यक्ति और एक समूह के बीच विकसित होती गतिशीलता को दर्शाया गया है। एक सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि यह फिल्म ‘12 एंग्री मेन’ से प्रेरित नहीं है, बल्कि यह एक स्वाभाविक प्रगति है लेकिन मेरी फिल्म का ऐसी फिल्म से तुलना किया जाना सम्मान की बात है। अट्टम फिल्म की कल्पना कैसे की गई, इस सवाल पर उन्होंने बताया कि फिल्म का विचार दोस्तों के साथ यात्रा पर सामान्य बातचीत में कोविड महामारी के दौरान आया था।

फिल्म के मुख्य अभिनेता विनय फोर्ट ने इस फिल्म की अवधारणा पर बात करते हुए कहा कि वह अपने 20 साल के थिएटर दोस्तों के साथ एक यात्रा पर थे, जहां हमने किसी तरह से अपनी दोस्ती, एकजुटता और कला को दिखाने का फैसला किया और इस पर एक फिल्म बनाने निर्णय लिया गया। फोर्ट ने कहा कि फिल्म बनाने की जिम्मेदारी आनंद पर आ गई, जो हमारे समूह में सबसे “रचनात्मक और पढ़ा-लिखा” है। इस विचार ने अंततः फिल्म अट्टम का रूप ले लिया। उन्होंने कहा कि फिल्म अट्टम बहुत व्यक्तिगत है, और यह एक पारिवारिक फिल्म है जो जो मेरे दिल के करीब है।

अभिनेता फ़ोर्ट ने आनंद की निर्देशकीय कुशलता की सराहना की। उन्होंने कहा कि आनंद एकार्शी ने हर अभिनेता की ताकत और उसकी सीमा को समझा और उसे बहुत अच्छी तरह से संभाला और एक दर्शक के नजरिए से शानदार फिल्म बन गई। इस सवाल पर कि एक अभिनेता के रूप में उन्हें क्या प्रेरित करता है, फोर्ट ने कहा कि रोमांचक स्क्रिप्ट, चुनौतीपूर्ण किरदार और ऐसे अन्य कारक महत्वपूर्ण हैं।

फिल्म के बारे में बात करते हुए अभिनेत्री जरीन शिहाब ने बताया कि इस फिल्म को मिला रिस्पॉन्स शानदार रहा है। जरीन निर्देशक आनंद की सराहना करती हैं। वह कहती हैं कि थिएटर कलाकारों को फिल्म के लिए एक साथ काम करते देखना बहुत अच्छा है और आनंद ने स्क्रीन के लिए कहानी कहने की क्षमता को बढ़ाने के लिए बहुत ही चतुराई से नाटकीय उपकरणों और तत्वों का उपयोग किया है।

इस पर निर्देशक आनंद एकार्शी ने कहा कि यह नौ अभिनेताओं के लिए पहली फिल्म थी और उन्हें थिएटर से सिनेमा में काम कराना विशेष कार्य है। उन्होंने बताया कि एक शॉट के लिए अभिनय करना थिएटर अभिनेताओं के लिए चुनौती है। उन्होंने कहा कि कैमरे और सेट से अभ्यस्त होने के लिए शूट से पहले 35 दिनों की सीन रिहर्सल की गई, इसलिए रिहर्सल सबसे महत्वपूर्ण चीज थी।

इस फिल्म के साउंड डिजाइनर रेंगनाथ रवि ने एक ही स्थान पर 13 अभिनेताओं के साथ शूटिंग की चुनौतियों के बारे में बात की। फिर उन्होंने बेहतरीन साउंड डिजाइन के साथ फिल्म में एक सूक्ष्म परत जोड़कर इसे दिलचस्प बना दिया।

अट्टम: यह ड्रामा फिल्म अरंगू नामक थिएटर ग्रुप का नाटक है जो एक महिला और बारह पुरुषों के इर्द-गिर्द घूमता है। उन्हें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान पाने का मौका उस वक्त मिलता है जब उन्हें हरी के दोस्त क्रिस और एमिली द्वारा एक प्रस्ताव दिया जाता है। हरी एक अभिनेता है जिसे पहले विनय द्वारा निभाई गई मुख्य भूमिका से बदल दिया गया था। नाटक की एकमात्र महिला कलाकार अंजलि, विनय से प्यार करती है और उसे बताती है कि क्रिस और एमिली द्वारा आयोजित पार्टी में हरि ने उसके साथ दुर्व्यवहार किया था। विनय इस जानकारी को मदन के साथ साझा करके हरि का असली चेहरा सबके सामने लाने की कोशिश करता है, जो टीम के बाकी सदस्यों के साथ इस पर चर्चा करने के लिए सहमत होता है और अंततः हरि को निष्कासित कर दिया जाता है। दोस्ती दांव पर हैं लेकिन मौद्रिक लाभ और सफलता का उपयोग लोगों के नैतिक ताने-बाने को पुरस्कृत करने और रिश्वत देने के एक उपकरण के रूप में किया जाता है। जैसे-जैसे घटनाएं आगे बढ़ती हैं, सच्चाई सामने आने पर वास्तविकता और भी अजीब लगने लगती है।

कलाकार समूह
निर्देशक: आनंद एकार्शी
निर्माता: जॉय मूवी प्रोडक्शंस एलएलपी
लेखक: आनंद एकार्शी
डीओपी: अनुरुद्ध अनीश
संपादक: महेश भुवनेंद
कलाकार: विनय फोर्ट, ज़रीन शिहाब

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार