ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

जनकृति पत्रिका का विदेशी भाषा कविता विशेषांक प्रकाशित अंक प्रकाशित

जनकृति अंतरराष्ट्रीय पत्रिका का ‘विदेशी भाषा कविता विशेषांक’ प्रकाशित हो गया है। विशेषांक पत्रिका की वेबसाईट (www.jankritipatrika.com) पर अनुवाद कॉलम के अंतर्गत पढ़ सकते हैं. विशेषांक में विभिन्न देशों के 50 से अधिक कवियों की कविताओं के हिंदी अनुवाद एवं लेख प्रकाशित किए गए हैं. विशेषांक को सार्थक रूप देने हेतु अनिल जनविजय जी (मास्को) ने संपादन एवं संकलन में विशेष सहयोग दिया. पत्रिका का आवरण चित्र प्रसिद्द चित्रकार डॉ. लाल रत्नाकर जी द्वारा निर्मित है.

विषय सूची-

विदेशी भाषी कविताओं के अनुवाद-
मारिया विस्लावा एना सिम्बोर्स्का: अनुवादक- पूजा तिवारी
कोरियाई कविताएँ: अनुवादक- दिविक रमेश
बर्तोल्त ब्रेख्त की कविताएँ: अनुवादक- वीणा भाटिया
रोज़ा आउसलेण्डर की दस कविताएँ : अनुवादक- प्रतिभा उपाध्याय
टोमास ट्रान्सट्रोमर की कविताएँ: अनुवादक- धर्मेन्द्र कुमार सिंह
अंगोला के कवि एरलिण्डो बारबेइटोस की कविताएँ: अनुवादक: राजा खुगशाल, अनिल जनविजय
यूनानी कवि कंस्तान्तिन कवाफ़ी, जर्मन कवि- माशा कालेको, पेटर रोज़ेग्ग, रोज़ा आउसलेण्डर: अनुवादक- अनिल जनविजय
क्रिस्टोफर ओकिग्‍बो, डेनिस ब्रूटस: अनुवादक- कुमार मुकुल
एलन ब्राउनजॉन (इंग्लैण्ड): अनुवादक: प्रो. अपूर्वानंद
अर्जेण्टीना के कवि चे ग्वेवारा: अनुवादक- नीलाभ
अर्जेण्टीना के कवि पाब्लो नेरुदा की कविताएँ: अनुवादक- मधु शर्मा, सुरेश सलिल
बेलारूस के कवि मक्सीम तांक: अनुवादक- वरयाम सिंह
फेडरिको गार्शिया लोरका: अनुवादक- आनंद बाला शर्मा
आस्ट्रेलियाई कवि लेस मरे: अनुवादक – अनामिका
ईरानी कवि फ़रीदे हसनज़ादे मोस्ताफ़ावी: अनुवादक- यादवेन्द्र पाण्डे
ईरानी कवि फ़रोग फ़रोखज़ाद: अनुवादक- यादवेन्द्र, भारत भूषण तिवारी
एस्तोनियाई कवि मार्गस लैटिक: अनुवादक- गौतम वसिष्ठ
(गांग अन ग्यो ) दक्षिणी हमग्येंग प्रान्त -“पहाड़ में फूल ” कोरियाई कविता संग्रह: अनुवादक- किम वू जो, कर्णसिह चौहान
चीनी कवि गून ल्यू: अनुवादक- अनिल जनविजय
चीनी कवि बेई दाओ: अँग्रेज़ी से अनुवादक — गीत चतुर्वेदी
जर्मन कवि हाइनरिश हाइने: अनुवादक – प्रतिभा उपाध्याय
जर्मन कवि बर्तोल्त ब्रेख़्त: अनुवादक- विजेन्द्र
जर्मन कवि रेनय मारिया रिल्के: अनुवादक- इला कुमार
जर्मन कवि हेनरिख़ हायने: अनुवादक- अनिल जनविजय
तुर्की के कवि ओरहान वेली: अनुवादक- अनिल जनविजय, मनोज पटेल, सिद्धेश्वर सिंह
तुर्की के महाकवि नाज़िम हिक़मत: अनुवादक- सोमदत्त, उत्पल बैनर्जी, शिवरतन थानवी, नीलाभ
दक्षिणी अफ़्रीकी कवि अमेलिया हाउस: अनुवादक- हेमन्त जोशी
नाइजीरिया के कवि चीनुआ एचेबे: अनुवादक- सुरेश सलील
नॉर्वे के कवि ऊलाव हाउगे: अनुवादक- रुस्तम सिंह
बोरिस पासतरनाक: अनुवादक- सूरज प्रकाश
फ़्राँसीसी कवि गैयोम अपोल्लीनेर: अनुवादक- अनिल जनविजय
फ़्राँसीसी कवि जाक प्रेवेर: अनुवादक- हेमन्त जोशी
फ़्राँसीसी कवि पॉल एल्युआर: अनुवादक- हेमन्त जोशी
फ़्राँसीसी कवि रोबेर साबातिए : अनुवादक- हेमन्त जोशी
फ़्राँसीसी कवि विक्टर ह्यूगो: अनुवादक- हेमन्त जोशी
फ्रेंच कवि बॉंदलेयर: अनुवादक- डॉ. आभा खेडेकर
तसलीमा नसरीन: अनुवादक- रतन चंद ‘रत्नेश’
ब्रिटिश कवि जेम्स फ़ेण्टन: अनुवादक- प्रमोद कौंसवाल
ब्रिटिश कवि स्टेफ़ान स्पैण्डर: अनुवादक- रमेशचंद्र शाह, अनिल एकलव्य
ब्रिटिश कवि हैरॉल्ड पिण्टर: अनुवादक- व्योमेश शुक्ल, अनिल एकलव्य
नज़ीम हिकमत- प्रोमिला क़ाज़ी
मैक्सिको के कवि ओक्तावियो पास: अनुवादक- रिनू तलवाड़, सुरेश सलील
यूनानी कवि कंस्तान्तिन कवाफ़ी: अनुवादक- सुरेश सलील, पियूष दईया
यूनानी कवि यानिस रित्सोस : अनुवादक- मंगलेश डबराल
यूनानी महाकवि ग्योर्गेस सेफ़ेरिस: अनुवादक- अमृता भारती, अनिल जनविजय
रूसी कवि अनतोली परपरा: अनुवादक- अनिल जनविजय
रूसी कवि निकलाय रेरिख़: अनुवादक- वरयाम सिंह
रूसी कवि मरीना स्विताएवा: अनुवादक- वरयाम सिंह
रूसी कवि येव्गेनी येव्तुशेंको: अनुवादक- अनिल जनविजय
रूसी कवि व्लदीमिर मायकोवस्की: अनुवादक- राजेश जोशी
रूसी महाकवि अलेक्सान्दर पूश्किन: अनुवादक- मदनलाल मधु
रोमानियाई कवि मारिन सोरस्क्यू: अनुवादक- मणि मोहन मेहता
लीबियाई कवि इदरीस मौहम्मद तैयब: अनुवादक- इन्दुकान्त आंगिरस
होर्खे लुइस बोर्खेस: अनुवादक- श्रीकांत दुबे
स्पानी भाषा के कवि फ़ेदरिको गार्सिया: अनुवादक- गुलशेर खान शानी, धर्मवीर भारती, गीत चतुर्वेदी
स्लावेनियाई कवि डेन जैक: अनुवादक- अनिल जनविजय
स्वीडिश कवि टोमस ट्राँसटोमर : अनुवादक- प्रियंकर पालीवाल, शिरीष कुमार मौर्या, मनोज पटेल
हंगारी कवि अत्तिला योझेफ़: अनुवादक- उमा
जर्मन कवि रेनय मारिया रिल्के: अनुवादक- इला कुमार
शैक्सपीय़र का सबसे अधिक रोमांटिक सोनेट १८: अनुवादक- राकेश माथुर (लंदन)

विदेशी भाषी कवियों पर लेख-
अनुवाद की प्रक्रिया व विविध सोपान: प्रो. सुशील कुमार शैली
जिसके कंठ से पृथ्वी के सारे वृक्ष एक साथ कविता पाठ करते थे : मिगुएल हर्नान्देज़- उदय प्रकाश
सेर्गेई एसेनिन: रूसी कविता का अमर लोकगायक- उमा
फ़राज़ आओ सितारे सफ़र के देखते हैं- कृष्ण कुमार यादव
नाइजीरिया के टिव समुदाय के मौखिक शौर्य गीत: प्रोफेसर हरदीप सिंह
प्रेम और क्रांति के कवि पाब्लो नेरूदा- प्रदीप त्रिपाठी

विस्तार से देखें http://www.jankritipatrika.com/#sthash.nyK6AxHB.dpuf

पत्रिका के वर्तमान अंक से संबंधित प्रतिक्रया एवं सुझाव आमंत्रित है. इस अंक के साथ ही जनकृति अंतरराष्ट्रीय पत्रिका ने अपने एक वर्ष पूर्ण किए हैं..

संपादन मंडल
जनकृति (विमर्श केंद्रित अंतरराष्ट्रीय मासिक ई पत्रिका)
www.jankritipatrika.com
8805408656

image_pdfimage_print


Get in Touch

Back to Top