Thursday, April 25, 2024
spot_img
Homeआपकी बातपेपर-लीक,नकल और परीक्षा-नियंत्रक की मजबूरियां

पेपर-लीक,नकल और परीक्षा-नियंत्रक की मजबूरियां

डॉ. शिबन कृष्ण रैणा

हाल ही में, प्रश्नपत्रों का लीक होना और परीक्षाओं में नकल का प्रचलन, मीडिया,परीक्षार्थियों,उनके अभिभावकों,जन-प्रतिनिधियों,बुद्धिजीवियों आदि के बीच चिंता और व्यापक चर्चा का विषय बन गया है। इस प्रवृत्ति ने न केवल परीक्षार्थियों, उनके अभिभावकों और शिक्षकों को निराश किया है, बल्कि देश की शिक्षा प्रणाली की प्रतिष्ठा को भी नुकसान पहुंचाया है।

अपने समय में विभिन्न परीक्षाओं के संचालन में अपनी विभिन्न प्रकार की भूमिकाओं के आधार पर, मैं इस महत्वपूर्ण कार्य से जुड़ी जटिलताओं और कठिनाइयों से अच्छी तरह परिचित हूं। दरअसल,परीक्षाओं का निर्बाध और निष्पक्ष संचालन किसी भी परीक्षा आयोजित करने वाली एजेंसी के लिए एक बड़ी चुनौती होती है।संपूर्ण प्रक्रिया,जिसमें प्रश्नपत्र तैयार करने वालों की नियुक्ति से लेकर मुद्रण, पैकिंग और दूरदराज के क्षेत्रों में स्थित परीक्षा-केंद्रों तक पेपर भेजने की प्रक्रिया शामिल है, अत्यधिक गोपनीयता और विश्वास की ज़रूरत रहती है। गोपनीयता और विश्वास की इस मिली-जुली भावना में किसी भी प्रकार के उल्लंघन अथवा विक्षेप के गंभीर और हानिकारक परिणाम निकल सकते हैं।

परीक्षा प्रश्न-पत्रों को सेट करने में वरिष्ठ, अनुभवी और सुयोग्य शिक्षकों और विषय-विशेषज्ञों की सहायता ली जाती है। परीक्षा-नियंत्रक द्वारा ऐसे सुयोग्य व्यक्तियों की एक सूची तैयार की जाती है और इस अनुमोदित पैनल में से प्रश्न-पत्र तैयार करने वालों का चयन किया जाता है। परीक्षा -नियंत्रक इस विशवास के साथ आगे बढ़ता है कि अनुमोदित महानुभाव विश्वसनीय विद्वान हैं और उनकी सत्यनिष्ठा पर सवाल नहीं उठाया जा सकता। दुर्भाग्य से, कुछ विद्वान आर्थिक अथवा अन्य तरह के प्रलोभनों में आकर उनके द्वारा बनाये गये प्रश्नपत्रों को लीक कर देते हैं और इस तरह से परीक्षा-प्रणाली की पवित्रता से समझौता कर लेते हैं।कहने की आवश्यकता नहीं कि प्रश्न पत्रों का लीक होना हमारी परीक्षा प्रणाली की सबसे बड़ी चुनौती है।यह प्रवृत्ति न केवल परीक्षा प्रणाली की निष्पक्षता को खतरे में डालती है, बल्कि परीक्षार्थियों के मनोबल को भी कम करती है

ध्यान से विचार करें तो ज्ञात होगा कि परीक्षा-नियंत्रक परीक्षा कराने की जटिल प्रक्रिया के हर पहलू की व्यक्तिगत रूप से निगरानी नहीं कर सकता। वह एक विहग तो नहीं कि हर जगह पहुंचे और हर एक पर नजर रखे। उसे तो अपने भरोसेमंद अधीनस्थों पर निर्भर रहना पड़ता है।दुर्भाग्य से, ज्यादातर इन भरोसेमंदों में से ही कुछ कर्मचारी व्यक्तिगत लाभ अथवा प्रलोभन के वशीभूत होकर बाहरी तत्वों के साथ मिलकर प्रश्न पत्र लीक करने जैसी अनैतिक गतिविधियों में शामिल हो जाते हैं।

ऐसे तत्वों पर कड़ी कार्रवाई करने की सख्त ज़रूरत है।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार