Tuesday, June 25, 2024
spot_img
Homeदुनिया मेरे आगेकिसान कल्याण की उपादेयता

किसान कल्याण की उपादेयता

भारत गांव का देश है। भारत में किसान को ग्राम देवता के रूप में पूजा जाता है।सरकार की ‘ बीज से बाजार तक की दृष्टिकोण ‘ से देश के कृषि क्षेत्र एवं बाजार क्षेत्र में क्रांतिकारी परिवर्तन हुए हैं ।आजादी के अमृत काल में भारतीय कृषि व कृषि बाजार ने सफलता ,उपलब्धियों एवं उपादेयता के नए गौरवशाली मानदंड स्थापित किए हैं।किसानों को तमाम तरह के जोखिम उसे सुरक्षित रखने, आमदनी बढ़ाने, सटीक जानकारी प्रदान करने और उन्हें कृषि उत्पादों का उपयोग करने वाली इकाइयों से जोड़ने पर सरकार का फोकस रहा है ।

इन सकारात्मक कदमों से भारत में कृषि का आधुनिकरण हुआ एवं ग्राम देवता की आय में लगातार बढ़ोतरी हुआ है। भारत सरकार ने किसानों की दयनीय दशा को सशक्त करने में कई ऐसे कदम उठाए हैं ,जिनसे भारत में किसानों को कम जोखिम उठाना पड़े। किसानों के लिए सुरक्षा तंत्र बनाने और बारिश पर उनकी निर्भरता को कम करना है ।अनावृष्टि व अतिवृष्टि के कारण लाखों किसान ग्रामीण खून चूसक ( कर्जदार) के चंगुल में फंस जाते थे। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में किसानों की आर्थिक दशा में गुणात्मक बदलाव किए हैं।

इस योजना के कारण किसानों को मजबूत सुरक्षा व संरक्षा प्राप्त हुआ है। प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना(पीएमएसवाई) से सिंचाई का क्षेत्र बड़ा और वर्षा जल पर किसानों की निर्भरता कम हुई हैं। पीएम फसल बीमा योजना के तहत 1.2 लाख करोड़ रुपए से अधिक अनुदान प्रदान किया गया था। 2021- 2026 के लिए पीएम कृषि सिंचाई योजना के लिए 93068 करोड़ रुपए का आवंटन किया गया है, इससे किसानों को प्राकृतिक घटना से सुरक्षा प्राप्त हो सके।

रिकॉर्ड उत्पादन से सरकारी खरीद में बढ़ोतरी हुई है ,जिससे किसानों की आय में अभूतपूर्व वृद्धि देखने को मिली है। डीबीटी के जरिए दी जाने वाली आर्थिक सहायता लगातार बढ़ने से किसानों को बिचौलियों की अवैध वसूली और कमीशन खोरी से आजादी मिली है ।एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर फंड के माध्यम से एक लाख करोड़ रुपए किसानों की आय बढ़ाने के लिए दिया गया है। वर्ष 2019 में सरकार ने पीएम किसान निधि की शुरुआत किया था; एवं किसानों के खाते में 6000 रुपए नगद हस्तांतरित किया गया था। नियमित रूप से किस्तों में मिलने वाली मदद से छोटे किसानों को भी अच्छी गुणवत्ता वाले सामान खरीदने, जमीन की उर्वरता शक्ति बढ़ाने और अपनी आय वृद्धि करने का शुभ अवसर प्रदान किया गया है ।भारतीय किसानों को जैसे-जैसे कृषि क्षेत्र में उपयोगी वैज्ञानिक सूचनाएं और नूतन नवोन्मेष उपलब्ध कराए जा रहे हैं, जिससे अन्न देवता स्मार्ट खेती की ओर अग्रसर हो रहा है।

सरकार द्वारा दिए गए मुद्दा कार्ड से किसानों को उनकी जमीन के बारे में बेहतर जानकारी मिल रही है। इन सभी सूचनाओं का समुचित उपयोग उत्पादन बढ़ाने के काम आ रहा है। विभिन्न प्रकार के वैज्ञानिक कार्यक्रमों के माध्यम से छोटे किसानों को प्राकृतिक और जैविक खेती के लिए प्रेरित किया जा रहा है, इसके उत्पादन की लागत कम हुई है; और कृषि से आय बड़ी है। इसके अतिरिक्त अन्न देवता को जलवायु परिवर्तन और कई तरह के संकटों से निपटने में सहयोग मिल रहा है;जिससे अन्न देवता को समुचित समाधान मिल सके।

(लेखक सहायक आचार्य व राजनीतिक विश्लेषक हैं)

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -

वार त्यौहार