Tuesday, April 16, 2024
spot_img
Homeकविताअशक्त नारी, सशक्त नारी

अशक्त नारी, सशक्त नारी

नर से जो द्विगुणित है नारी,
वह नारी क्यों आज है हारी?
शक्तिस्रोत है नाभि में जिसके,
आखिर उसकी क्या लाचारी?

सृजन – पालन जो करती है
वह ध्वंश नाम से क्यों घबराती?
जिस पथ सब सरल चाल चलते,
उस पथपर भी वह बल खा जाती

जो स्नेह लुटाती लाल पर अपने
वो वधू का काल क्यों बन जाती
कुछ वधुएँ भी यहा होती हैं ऐसी
जो सासू माँ को क्या खूब छकाती

खाने को नारी गम खाती है
और पी जाती सब खारा पानी,
फिर भी जाए छलक यदि तो
स्वयं को वह कठघरे में पाती

सिसक सिसक कर जीवन जीती
और जीवन, चैका-बेलन-रोटी
लांघा जब चौखट को उसने आज
उठा लिया है जब बेलन को हाथ

यह समाज उसपर चिल्लाता
हो पति या बेटा हाथ उठाता
उस हाथ को नारी रोक न पाती
अब भी जाने क्या है लाचारी?

निकली जब घर से बाहर आज
उसे मिला दुशासन का समाज
दुशासन के लम्बे -लम्बे हाथ
दुर्योधन का उसपर वरद हाथ?

एक दुशासन के कारण…
कभी हुआ यहाँ था भीषण रण
तब राजतंत्र था, अब लोकतंत्र
कैसी प्रगति, जब वही आचरण?

गृह अन्दर नारी का शासन है
पर घर-घर एक दुशासन है
दुशासन तो घर में ही पलता
माँ आखिर उसको समझ न पाती

कहती जिसे वह लाल ! लाल!!
वही करता है नारी को हलाल,
किसी नारी के लाल की करनी है
नारी का यह शव, ये टुकडे लाल.

(भाग-२)

नारी छोड़ो तुम इस ममता को
इस झूठे मान और प्रभुता को
तेरी असली शक्ति तो समता है
क्यों छोड़ दिया इस समता को?

समता से नाता जोड़ोगी
यह प्रभुता दौड़ी आएगी
हर दृष्टि थर्राएगी तुमसे
नहीं ध्वंश की बारी आएगी

दुशासन नजर न आएगा
घर बैठे वह शोक मनायेगा
घुट घुट कर वह मर जाएगा
दुर्योधन भी तब घबराएगा .

अब लाल जिसे भी बोलोगी
मुह में मिसरी जब घोलोगी
यह जग होगा तेरा ही लाल
तू है एक माँ, तू रहेगी माँ .

हो प्रकृति स्वरूपा, बनो प्रकृति
सृजन- पालन में रहो प्रवृत्त,
जननी बन जा, तू जगजननी
जय हे जननी, जय जगजननी!

(डॉ. जयप्रकाश तिवारी कवि हैं।)

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार