आप यहाँ है :

कोरोना से ज्यादा घातक हगै सरकार में बैठे बाबुओं की अंग्रेजी की गुलामी

सेवा में,
संयुक्त सचिव (लोक शिकायत-प्रशासन)
स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
नई दिल्ली

विषय-स्वास्थ्य मंत्रालय की वेबसाइट पर किरीट विषाणु (कोरोना) से संबंधित सूचनाएँ केवल अंग्रेजी में क्यों?

आदरणीय श्री सुधीर कुमार जी,

मेरी 8 मार्च 2020 की शिकायत क्र. DHLTH/E/2020/01519, प्रधानमंत्री कार्यालय को भेजी गई 16 मार्च 2020 की शिकायत क्र. PMOPG/E/2020/0127172, राजभाषा विभाग के 23 मार्च 2020 के पत्र, राष्ट्रपति सचिवालय को दायर की गई 25 मार्च 2020 की याचिका क्र. PRSEC/E/2020/06079 और 1 अप्रैल 2020 की अधोलिखित ईमेल शिकायत का संदर्भ ग्रहण करें, इनमें से किसी का भी उत्तर स्वास्थ्य मंत्रालय ने अब तक नहीं दिया है। (त्वरित संदर्भ के लिए संलग्न हैं)

किरीट विषाणु के संक्रमण से देश में अब तक 550 से अधिक लोगों की मृत्यु हो चुकी है और संक्रमित व्यक्तियों की संख्या तेजी से बढ़कर 17000 से ऊपर पहुँच चुकी है।

किरीट विषाणु संक्रमण जैसी वैश्विक महामारी से लड़ाई में भारत के लिए भाषा एक महत्वपूर्ण कड़ी है परंतु आपदाओं के समय भारत सरकार के विभागों और स्वास्थ्य मंत्रालय का विदेशी भाषा अंग्रेजी के प्रति दुराग्रह विनाशकारी है। यदि सभी आधिकारिक सूचनाएँ भारत सरकार द्वारा राजभाषा हिन्दी में व राज्य सरकारों द्वारा भारतीय भाषाओं में जारी की जाएँ तो आम जनता को इन्हें पढ़ने, समझने के लिए दूसरों पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा, इससे अफवाहों पर भी लगाम लगेगी।

आपके द्वारा संबंधित अधिकारियों को त्वरित निर्देश दिए जाने की आशा करती हूँ।

भवदीय

श्रीमती विधि प्र. जैन

सी-32, स्नेहबंधन सोसाइटी, भूखंड-3, प्रभाग 16, वाशी, नवी मुंबई 400703 (भारत)

प्रतिलिपि-

राजभाषा विभाग, भारत सरकार

———- Forwarded message ———
भेजने वाले: विधि प्रवीण जैन vidhi praveen jain
Date: बुध, 25 मार्च 2020 को 9:09 pm बजे
Sub

———- Forwarded message ———
भेजने वाले: विधि प्रवीण जैन vidhi praveen jain
Date: बुध, 1 अप्रैल 2020 को 7:53 pm बजे
Subject: Re: स्वास्थ्य मंत्रालय की वेबसाइट पर किरीट विषाणु (कोरोना) से संबंधित सूचनाएँ केवल अंग्रेजी में क्यों?
To: , , , , ,
Cc: , , Joint Secy, OL , डॉ एम एल गुप्ता (Dr. M.L. Gupta) , वैश्विक हिंदी सम्मेलन मुंबई , वेद प्रताप वैदिक जी Vedpartap vaidik , sanskritik gaurav sansthan , राहुलदेव Rahul Dev , निर्मल पाटोदी जी Nirmal Kumar Patodi , Hindi Media

1 अप्रैल 2020

सेवा में,
संयुक्त सचिव
स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
नई दिल्ली

विषय-स्वास्थ्य मंत्रालय की वेबसाइट पर किरीट विषाणु (कोरोना) से संबंधित सूचनाएँ केवल अंग्रेजी में क्यों?

आदरणीय श्री सुधीर कुमार जी,

मेरी 8 मार्च 2020 की शिकायत क्र. DHLTH/E/2020/01519, प्रधानमंत्री कार्यालय को भेजी गई 16 मार्च 202 की शिकायत क्र. PMOPG/E/2020/0127172, राजभाषा विभाग के 23 मार्च 2020 के पत्र और राष्ट्रपति सचिवालय को दायर की गई 25 मार्च 2020 की याचिका क्र. PRSEC/E/2020/06079 का संदर्भ ग्रहण करें। (त्वरित संदर्भ के लिए संलग्न हैं)

किरीट विषाणु के संक्रमण से देश में आज तक 51 लोगों की मृत्यु हो चुकी है और संक्रमित व्यक्तियों की संख्या तेजी से बढ़ रही है।किरीट विषाणु संक्रमण जैसी वैश्विक महामारी से लड़ाई में भारत के लिए भाषा एक महत्वपूर्ण कड़ी है परंतु आपदाओं के समय भारत सरकार के विभागों और स्वास्थ्य मंत्रालय का विदेशी भाषा अंग्रेजी के प्रति दुराग्रह विनाशकारी है। यदि सभी आधिकारिक सूचनाएँ भारत सरकार द्वारा राजभाषा हिन्दी में व राज्य सरकारों द्वारा भारतीय भाषाओं में जारी की जाएँ तो आम जनता को इन्हें पढ़ने, समझने के लिए दूसरों पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा, इससे अफवाहों पर भी लगाम लगेगी।

आपके द्वारा संबंधित अधिकारियों को त्वरित निर्देश दिए जाने की आशा करती हूँ।

भवदीय

श्रीमती विधि प्र. जैन

सी-32, स्नेहबंधन सोसाइटी, भूखंड-3, प्रभाग 16, वाशी, नवी मुंबई 400703 (भारत)

प्रतिलिपि-

राजभाषा विभाग, भारत सरकार

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top