Sunday, May 26, 2024
spot_img
Homeकवितानेपाल में भूकंप पर मन की आवाज ... और आज...

नेपाल में भूकंप पर मन की आवाज … और आज हमारी बारी

पहाड़ों से आकर करते; जो हमारी, हर दिन पहरेदारी,
मुश्किल में है उनका आंगन, और आज हमारी बारी ।।
 
घर-बार छोड़कर; मन मसोसकर, आते करके तैयारी,
 कैसे भी हालात; इन्होंने, हिम्मत कभी न हारी।
आपदा झेल रहे हैं, हमको आशा से देख रहे हैं,
मुश्किल में है उनका आंगन, और आज हमारी बारी ।।
 
आया भूचाल; हिला नेपाल, ठनका भारत का भाल,
तत्काल प्रधानमंत्री मोदी ने, उनसे पूछा उनका हाल।
बिना जरा भी वक्त गंवाए भेजी, हर मदद सरकारी,
मुश्किल में है उनका आंगन, और आज हमारी बारी ।।
 
सरहद भले अलग है, पर दिल तो अलग नहीं है।
लगता हैं सब अपने जैसा, कुछ भी तो अलग नहीं है।
देश का बच्चा-बच्चा, उनकी समझ रहा लाचारी,
मुश्किल में है उनका आंगन, और आज हमारी बारी ।।
 
भारत में बैठा नेपाली, घर की सोच घबराया है,
न जाने कौन चला गया, कौन-कौन बच पाया है।
अपने घर पर ही टिकी हैं , उसकी नजरें सारी,
मुश्किल में है उनका आंगन, और आज हमारी बारी ।।
 
पर्वत-पुत्रों के इस संकट में, पूरा भारत उनके साथ है,
कोई कसर नहीं छोड़ेंगे, हमने बढ़ाया मदद का हाथ है ।
हजारों राहतकर्मियों-स्वयंसेवकों का, वहाँ पहुंचना जारी,
मुश्किल में है उनका आंगन, और आज हमारी बारी ।।

image_print

एक निवेदन

ये साईट भारतीय जीवन मूल्यों और संस्कृति को समर्पित है। हिंदी के विद्वान लेखक अपने शोधपूर्ण लेखों से इसे समृध्द करते हैं। जिन विषयों पर देश का मैन लाईन मीडिया मौन रहता है, हम उन मुद्दों को देश के सामने लाते हैं। इस साईट के संचालन में हमारा कोई आर्थिक व कारोबारी आधार नहीं है। ये साईट भारतीयता की सोच रखने वाले स्नेही जनों के सहयोग से चल रही है। यदि आप अपनी ओर से कोई सहयोग देना चाहें तो आपका स्वागत है। आपका छोटा सा सहयोग भी हमें इस साईट को और समृध्द करने और भारतीय जीवन मूल्यों को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए प्रेरित करेगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

लोकप्रिय

उपभोक्ता मंच

- Advertisment -spot_img

वार त्यौहार