आप यहाँ है :

अभिलाषा सक्सेना, इंदौर।
 

  • पूर्वोत्तर के बच्चों को अपने खर्च पर पढ़ा रहे हैं इन्दौर के युवा

    पूर्वोत्तर के बच्चों को अपने खर्च पर पढ़ा रहे हैं इन्दौर के युवा

    तीन साल से पूर्वोत्तर के त्रिपुरा व मिजोरम के गांवों के आर्थिक रूप से पिछड़े परिवारों के बच्चों को शिक्षित

  • अमरीका छोड़ा और अब साल 85 गायों की मदद से 400 घरों में दे रहे शुध्द दूध

    अमरीका छोड़ा और अब साल 85 गायों की मदद से 400 घरों में दे रहे शुध्द दूध

    आज भी देश के अधिकांश युवाओं का सपना एमबीए कर मल्टी नेशनल कंपनियों में अच्छे पैकेज की नौकरी करना होता है। वहीं 34 साल के निक्की सुरेका पर्यावरण और प्रकृति प्रेम के चलते अमेरिका से नौकरी छोड़कर इंदौर के पास एक गांव में गाय का 100 फीसदी शुद्ध दूध सप्लाई करने में जुटे हैं।

  • ‘राइट टू वोट’ ऐप से कर सकेंगे वोटिंग!

    आईआईएम इंदौर के पूर्व छात्र नीरज गुटगुटिया के स्टार्टअप 'राइट टू वोट' ऐप को नेस्कॉम और फेसबुक के 'कोड फॉर नेक्सट बिलियन' कार्यक्रम के दूसरे संस्करण के लिए चुना गया है। बैंगलुरू में हाल ही में घोषित परिणामों में देशभर के दस स्टार्टअप्स को इस कार्यक्रम के लिए चुना गया। 'राइट टू वोट' ऐप के जरिए मोबाइल से वोटिंग किसी भी चुनाव के लिए वोटिंग की जा सकती है। भारत में मोबाइल इंटरनेट एप्लीकेशन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से छह महीने के इस कार्यक्रम में इन स्टार्टअप्स को तकनीकी और आर्थिक रूप से मदद की जाएगी, ताकि ये नए इंटरनेट और मोबाइल यूजर्स तैयार कर सकें।

  • डॉ. उषा यादवः गरीबों का इलाज ही नहीं करती आर्थिक मदद भी करती है

    डॉ. उषा यादवः गरीबों का इलाज ही नहीं करती आर्थिक मदद भी करती है

    डॉक्टर का प्रोफेशन समाज में सबसे नोबल प्रोफेशन माना जाता है। जब कोई बीमार व्यक्ति डॉक्टर के पास जाता है और ठीक होकर लौटता है, तो वह डॉक्टर उसके लिए भगवान के समान होता है। लेकिन कहा जाता है आज के समय में अच्छे डॉक्टर किस्मत वालों को ही मिलते हैं।

Get in Touch

Back to Top