आप यहाँ है :

आचार्य विरजानन्द दैवकरणि
 

  • कुतुबमीनार का एक एक हिस्सा चीख चीख कर कह रहा है कि ये प्राचीन वैधशाला है

    कुतुबमीनार का एक एक हिस्सा चीख चीख कर कह रहा है कि ये प्राचीन वैधशाला है

    भारत के प्रसिद्ध ज्योतिषी आचार्य वराहमिहिर के नाम पर मिहिरावली नामक ग्राम बसा हुआ था । यही नाम कालान्तर में विकृत होता - होता महरौली बन गया । प्रसिद्ध भाषा विशेषज्ञ और महान् शिक्षाविद् श्री डॉ० लोकेशचन्द्र जी पूर्व सांसद की मान्यता है कि महरौली का प्राचीन नाम मिहिरपल्ली था ।

    • By: आचार्य विरजानन्द दैवकरणि
    •  ─ 
    • In: आपकी बात

Get in Touch

Back to Top