आप यहाँ है :

प्रतीक
 

  • हमारा ये इतिहास हमें पढ़ाया ही नहीं गया

    हमारा ये इतिहास हमें पढ़ाया ही नहीं गया

    रानी के इस बलिदान को देख कर राव रतन सिंह निर्भीक और असक्तिहीन हो गए। युद्ध में अपनी प्रेयसी से स्वर्ग में मिलने की अभिलाषा में चुण्डावत सरदार ने ऐसी वीरता का प्रदर्शन किया कि

Get in Touch

Back to Top