आप यहाँ है :

जवाहर लाल कौल
 

  • एक पूरे युग के प्रत्यक्षदर्शी थे बलराज मधोक

    एक पूरे युग के प्रत्यक्षदर्शी थे बलराज मधोक

    प्रोफेसर बलराज मधोक का 96 वर्ष की आयु में जाना एक पूरे युग के की उठापटक के चश्मदीद गवाह का छिन जाना है। बलराज मधोक ने जम्मू-काश्मीर को तब से समझना आरम्भ किया जब भारत के विभाजन की योजनाए बन रही थी, वे तब जवान हुए जब जम्मू-काश्मीर को बलात छीनने की समरनीति तय की जा रही थी।

Back to Top