ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

डॉ. कृष्णगोपाल मिश्र
 

  • अराजक आपातकाल की ओर बढ़ता देश !

    अराजक आपातकाल की ओर बढ़ता देश !

    सत्य-असत्य से दूर जाकर तर्कों-कुतर्कों के सहारे प्रस्तुत होने वाली ये बहसें सच को सामने लाने के स्थान पर भ्रांतियां ही अधिक निर्मित करती हैं। सामंतवादी युग में तीतर-बटेर और मुर्गों की लड़ाई के प्रदर्शन जैसे यह डिबेट आयोजन समय और श्रम की बर्बादी के साथ-साथ जनता जनार्दन के मध्य वैमनस्य भी उत्पन्न करते हैं

  • लोकतंत्र के नाम पर सत्ता ने जनता की ताकत पर कब्जा कर लिया

    लोकतंत्र के नाम पर सत्ता ने जनता की ताकत पर कब्जा कर लिया

    ब्रिटिश दासता का शिकार रहे विश्व के अनेक देशों ने उसके उपनिवेशवाद से मुक्ति पाने पर उसके द्वारा स्थापित लोकतांत्रिक व्यवस्था के स्वरूप को अपनी परिस्थितियों पर विचार किए बिना स्वीकार कर लिया।

  • हिंदू देह है और हिंदुत्व उसकी आत्मा

    हिंदू देह है और हिंदुत्व उसकी आत्मा

    स्वतंत्र भारत में सत्ता मिलते ही जिन्होंने गंगा को सांस्कृतिक विरासत के स्थान पर भौतिक समृद्धि का प्राकृतिक संसाधन मात्र माना और तथाकथित विकास के नाम पर पवित्र गंगा जल प्रदूषित कर विषाक्त बना दिया।

  • सत्ता में बैठे सभी लोग देश का इस्लामीकरण करने में लगे हैं

    सत्ता में बैठे सभी लोग देश का इस्लामीकरण करने में लगे हैं

    पृथ्वीराज चौहान और जयचंद के वंशज परस्पर संघर्ष कर रहे हैं।

Get in Touch

Back to Top